class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बस हटाने की हिदायत देना डॉक्टर को पड़ा महंगा

नर्सिग होम के एमडी को दरवाजे के सामने खड़ी बस हटाने की हिदायत देना भारी पड़ गया। बस चालक व क्लीनर ने डॉक्टर की लातों और घूसों से जमकर पिटाई कर दी। इतना ही नहीं डॉक्टर जब मामले की शिकायत लेकर पुलिस के पास पहुंचा तो पुलिसकर्मी भी डॉक्टर पर पिल पड़े। बाद में पुलिसकर्मियों ने माफी मांगकर मामले को रफा-दफा करने का प्रयास किया, मगर डॉक्टर न्याय के लिए अड़ा हुआ है। उसका कहना है कि वह मामले को आला अफसरों तक ले जायेगा।


घटना दोपहर करीब बारह बजे की है। रेलवे रोड पर स्थित मोहन अस्पताल के बाहर एक बस आकर रूकी। बस नोएडा दादरी रूट पर चलने वाली थी। बताया जाता है कि अस्पताल के एमडी डॉक्टर उपेन्द्र कुमार ने बस चालक से बस हटाने के लिए कहा तो बस चालक व क्लीनर डॉक्टर पर टूट पड़े और उसे सड़क पर गिरा कर मार लगा दी। इसी बीच रेलवे रोड चौकी इंचार्ज छोटेलाल कुछ सिपाहियों के साथ मौके पर पहुंचा तो वह भी झगड़े के लिए डॉक्टर को दोषी ठहराने लगा और जबरन जीप में बैठाकर उसे थाने ले गया। आरोप है कि पुलिसकर्मियों ने डाक्टर की पिटाई भी कर दी। यह सब एक बसपा नेता के इशारे पर किया गया। उक्त बसपा नेता बस चालक का पक्ष लेने के लिए पुलिस पर दबाव बना रहा था। पीड़ित डॉक्टर का कहना है कि वे मामले की शिकायत उच्च अधिकारियों से करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बस हटाने की हिदायत देना डॉक्टर को पड़ा महंगा