class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दोषियों की गिरफ्तारी और पूरी घटना की उच्चस्तरीय जांच हो : गौस

राजद ने कहा है कि जदयू मधुबनी जिले में जातीय तनाव फैलाने की कोशिश कर रहा है जिसमें स्थानीय प्रशासन का रवैया दोषपूर्ण है। वह दोषियों को बचा रही है। उसके ढुलमुल रवये के कारण वहां की स्थिति गंभीर है और आगे किसी तरह की अप्रिय घटना होती है तो उसकी पूरी जिम्मेवारी स्थानीय प्रशासन की होगी। 

विधानपरिषद में प्रतिपक्ष के नेता गुलाम गौस और पूर्व विधान पार्षद रामबदन राय ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मधुबनी के घोघरडीहा प्रखंड के युवा राजद अध्यक्ष राजकुमार यादव को जदयू समर्थक जगदीश मंडल के लोगों ने पहले पीटा और फिर दुष्कर्म का आरोप लगा मुकदमा कर दिया। श्री यादव अभी पीएमसीएच में जीवन-मौत से संघर्ष कर रहे हैं। दूसरी तरफ पुलिस प्रशासन स्थानीय सांसद के इशारे पर हमलावरों को बचा रही है और पूरी घटना को जातीय रंग देने की कोशिश में लगी हुई है।

उन्होंने दोषियों को तुरंत गिरफ्तार करने और पूरी घटना की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। उन्होंने बताया कि लोकसभा चुनाव में हरनई और अमही गांव में दो बूथों पर जदयू कार्यकर्ताओं द्वारा किये जा रहे जबरन मतदान का राजकुमार यादव ने विरोध किया था। इसी के खिलाफ चुनाव बाद जदयू के नेताओं ने दोनों गांवों में जातीय उन्माद फैलाने का काम किया और राजकुमार यादव की पिटाई की। आरोपियों के खिलाफ केस किया गया तो पुलिस प्रशासन ने श्री यादव पर ही दुष्कर्म का झूठा मुकदमा दर्ज कर दिया है। इससे वहां काफी आक्रोश है और लोगों का प्रतिवाद जारी है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष अब्दुलबारी सिद्दीकी के निर्देश पर रामकृपाल यादव, गुलाम गौस और रामबदन राय की तीन सदस्यीय टीम ने घटनास्थल का दौरा कर पूरी घटना की जानकारी ली। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जदयू जातीय तनाव फैलाने की कोशिश कर रहा: राजद