class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चार महीने में दूसरी घटना से हड़कम्प, कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज

मऊ जनपद के बाद अब आजमगढ़ शहर के मोहल्ला स्थित राजकीय बालगृह (बालक) से मंगलवार की रात पांच किशोर लापता हो गये। इससे ड्यूटी पर तैनात सुरक्षा गार्डो समेत पूरे स्टाफ में हड़कम्प मच गया। बच्चों को पूरी रात शहर में खोज गया, लेकिन वे नहीं मिले। बुधवार की देर शाम बालगृह के अधीक्षक ने शहर कोतवाली में इसकी रिपोर्ट दर्ज कराई। वहीं दूसरी ओर जिलाधिकारी जी.एस. प्रियदर्शी ने घटना की सूचना मिलते ही पूरे मामले की जांच के लिए अपर जिलाधिकारी प्रशासन को बाल सुधार गृह भेज है।

जिलाधिकारी ने कहा कि, इस मामले में दोषी पाये जने वालों को बख्शा नहीं जएगा। उन्होंने बताया कि, इसके पूर्व भी बाल सुधार गृह से बच्चे भाग गये थे, जिसकी मजिस्ट्रेटियल जंच चल रही है। जानकारी के मुताबिक, लापता बच्चों में विजय (15), राजू तेतरा (14), गंगाराम (14), पवन (15) तथा राजू (16) पुत्र धनीराम शामिल हैं। बाल सुधार गृह से विगत फरवरी माह में भी पांच किशोर लापता हो गये थे। उस प्रकरण में किसी कर्मचारी, सुरक्षा गार्ड या अधीक्षक के खिलाफ आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गयी है।

नये प्रकरण के बाबत मिली जनकारी के अनुसार, मंगलवार की रात बाल सुधार गृह में तैनात वाराणसी की एक नर्स के घर ववाहिक समारोह था, जिसमें शामिल होने स्टाफ के ज्यादातर कर्मचारी व अधिकारी रवाना हो गये थे। रात आठ बजे सुरक्षा गार्ड योगेन्द्र यादव की डच्यूटी शुरू हुई। उस समय बाल सुधार गृह में रह रहे सभी 23 किशोर मौजूद थे। रात साढ़े नौ बजे अचानक पता चला कि, पांच बच्चे लापता हैं। सुरक्षा गार्ड ने मोबाइल से इसकी सूचना अन्य कर्मचारियों व अधीक्षक को दी।

सभी की मिलीभगत से तय हुआ कि, पुलिस को जनकारी नहीं दी जएगी और रात भर बच्चों की खोज की गयी। रेलवे स्टेशन, रोडवेज सहित कई संभावित स्थलों पर बच्चों को तलाशा गया, लेकिन वे नहीं मिले। बुधवार को पूरे दिन अधीक्षक शलेन्द्र यादव दौड़ भाग किये, लेकिन सफलता नहीं मिली। शाम को उन्होंने शहर कोतवाली में पांच बच्चों के लापता होने की रिपोर्ट दर्ज कराई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आजमगढ़ में बाल सुधार गृह से 5 किशोर लापता