class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

35 डॉक्टरों को एक माह से बिना काम के मिल रहा है वेतन

स्वास्थ्य विभाग प्रशासन आम तौर पर डॉक्टरों की कमी को रोना रोता है। लेकिन इसी विभाग में 35 डॉक्टरों को एक माह से ऊपर हो गया लेकिन कोई काम नहीं दिया गया। वह कार्यालय केवल हस्ताक्षर करने के लिए आते हैं। इस अवधि में इन डॉक्टरों को 10 लाख रुपए से अधिक का वेतन भी बगैर काम के बाँट दिया गया।

मामला पल्स पोलियो अभियान से जुड़े डॉक्टरों का है। प्रदेश में पोलियो अभियान के संचालन के लिए 35 डॉक्टर काफी पहले प्रतिनियुक्ति पर भेज दिए गए थे। इनको वेतन भी केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग से मिल रहा था। राज्य सरकार ने इन्हें विभाग में वापस लाने के लिए लम्बा प्रयास किया। काफी विवाद के बाद 30 अप्रैल को इन्हें स्वास्थ्य विभाग में वापस ले लिया गया। लेकिन आज तक इन्हें विभाग में कोई काम नहीं दिया गया। तब से यह 35 डॉक्टर निदेशक-प्रशासन के यहाँ हाजिरी भर लगा रहे हैं।

इस बीच इन डॉक्टरों के वेतन पर अब तक 10 लाख रुपए से अधिक खर्च हो चुके हैं लेकिन काम कुछ नहीं लिया गया। खुद यह डॉक्टर भी निठल्ले बैठा दिए जने से खफा हैं। वहीं स्वास्थ्य महानिदेशक का कहना है कि जल्दी ही डॉक्टरों की तैनाती कर दी जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिना काम के बांट दिए 10 लाख रुपए