class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आग की चपेट में आने से बची ट्रेन, गार्ड के साहस से टला हादसा

नरकटियागंज-सीतामढ़ी रेलखंड में नरकटियागंज-गोखुला स्टेशन के बीच मंगलवार की सुबह 208 डाउन पैसेंजर ट्रेन आग की चपेट में आने से बाल-बाल बची। ट्रेन के गार्ड की बुद्धिमानी व सतर्कता से एक बड़ा हादसा टल गया। छोटी लाइन की इस ट्रेन के एसएलआर बोगी संख्या 92730 के शौचालय में किसी यात्री ने प्लास्टिक के दो डिब्बों में पेट्रोल छिपाकर रखा था। ट्रेन के लगभग पांच किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद पेट्रोल रखे एक डब्बे में आग लग गयी।

शौचालय से धुआं निकलते देख बोगी में बैठे यात्रियों में भगदड़ मच गयी। भगदड़ व शोर की आवाज सुनकर गार्ड मो. इमामुल्लाह अंसारी ने वक्यूम कर ट्रेन को रोक दिया। शौचालय में घुसकर गार्ड मो. इमामुल्लाह अंसारी ने आग लगे पेट्रोल के दोनों डिब्बे को बॉगी से बाहर फेंक दिया। पेट्रोल रखे दोनों डिब्बे को फेंकने के क्रम में गार्ड का हाथ झुलस गया। बोगी में बैठे यात्रियों ने बताया कि अगर थोड़ी देर और ट्रेन नहीं रुकती और गार्ड ने साहस का परिचय नहीं दिया होता तो ट्रेन को जलने से कोई नहीं बचा सकता था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बर्निग ट्रेन बनने से बची पैसेंजर ट्रेन