class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली में महंगी हुई बिजली

सोमवार से दिल्ली में बिजली लगभग साढ़े सात पैसे प्रति यूनिट महंगी हो गई, क्योंकि दिल्ली सरकार ने रविवार तक दी जा रही सब्सिडी देने की घोषणा नहीं है। दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का कहना है कि बिजली वितरण कंपनियों को सब्सिडी जारी रखी जाए अथवा नहीं, इस संबंध में कोई भी फैसला दिल्ली विद्युत नियामक आयोग (डीईआरसी) के बाद ही    किया जाएगा।

दिल्ली सरकार द्वारा घरेलू उपभोक्ताओं को वर्ष 2005-06 से सब्सिडी दी जा रही है। वर्ष 2005-06 में दिल्ली सरकार ने घरेलू उपभोक्ताओं को बिजली की दरों पर दस प्रतिशत सब्सिडी का फैसला लिया था। उस वर्ष तो कंपनियों और सरकार ने आधा-आधा भुगतान किया था, लेकिन उसके बाद सरकार पूरा दस प्रतिशत भुगतान कर रही है। पिछले वर्ष 2008-09 में जब डीइआरसी ने बिजली दरों में पांच पैसे प्रति यूनिट बढ़ाने का आदेश दिया था, तो सरकार ने यह पांच पैसे भी सब्सिडी के तौर पर देने का निर्णय      लिया था।

इस तरह सरकार लगभग  450 करोड़ रुपये सब्सिडी के तौर पर बिजली कंपनियों को दे रही है। सब्सिडी की आखिरी तारीख 31 मई को यानी रविवार को खत्म हो गई, लेकिन सोमवार को सब्सिडी देने का दिल्ली सरकार का आदेश   नहीं आया।


बिजली कंपनियों का कहना है कि सोमवार को रेट बढ़ा दिया गया है और अब उपभोक्ताओं को लगभग 2.47 रुपये या 2.48 रुपये प्रति यूनिट वसूला जएगा। इससे पहले उपभोक्ताओं को 2.40 रुपये प्रति यूनिट देना पड़ता था। उधर बिजली अधिकारियों का कहना है कि यदि सरकार सब्सिडी देने का फैसला लेती है तो फिर वर्तमान दरों को बिल में समायोजित किया ज सकता है, जबकि सरकार का कहना है कि इसी माह होने वाले बजट सत्र में सब्सिडी पर व्यापक चर्चा के बाद ही कोई अंतिम फैसला लिया जएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली में महंगी हुई बिजली