class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूर्व सांसद के बयान का क्या है राज

जदयू नेता व ट्रांसपोर्टर सत्येन्द्र अपहरण मामले में अबतक गुजरा सीन किसी रोमांचकारी फिल्म के दृश्य से कम नहीं। तीन बच्चों के पिता सत्येन्द्र की रहस्यमय गुमशुदगी को लेकर जहां उनकी पत्नी, भाई और परिवार बेहाल है वहीं पुलिस जंच को भटकाने के लिए इस मामले के संदिग्धों द्वारा चाल पर चाल चली गई। इस चाल को अनुभवी पुलिस अधिकारियों ने ताड़ लिया वरना इस जंच की दिशा ही अबतक भटकी मिलती।


इस मामले में सत्येन्द्र की गुमशुदगी की प्राथमिकी दर्ज होने के दूसरे दिन से ही पुलिस जंच को भटकाने के लिए चाल चलनी शुरू कर दी गई थी । 24 मई को  बिना किसी सूचना या पुलिस अधिकारियों के बुलाए बिना अथमलगोला के रूपस गांव निवासी व राजनीतिक कार्यकर्ता संतोष सिंह ने अचानक वरीय पुलिस अधिकारियों के समक्ष प्रकट होकर कहा कि उसने सत्येन्द्र सिंह को एक सिल्वर कलर की गाड़ी में 23 मई को बाढ़ की तरफ जते देखा था। उसने पुलिस को यह भी बताया कि उस वक्त वह अथमलगोला से अपनी गाड़ी से फतुहा ज रहा था तभी खुसरूपुर के पास उसने सत्येन्द्र सिंह की गाड़ी देखी। संतोष ने तब उस वक्त अपने साथ राजन सिंह नामक एक व्यक्ित को भी साथ होना बताया। पुलिस ने जब राजन सिंह से पूछताछ की तो उसने ऐसा कुछ भी देखने से इनकार किया इसके बाद पुलिस को इस मामले में शंका हो गई। बाद में छानबीन में यह बात सामने आयी की संतोष पूर्व सांसद का काफी करीबी है।

उसे दुबारा बुलाकर जब पुलिस अधिकारियों ने जब कड़ाई से लंबी पूछताछ की तो उसने स्वीकार कर लिया कि उसने सत्येन्द्र सिंह को देखे जने के बाबत झूठ बोला था। उसने किसके इशारे पर पुलिस को बरगलाने की कोशिश की इसका राज अभी पुलिस नहीं खोल रही है। इस मामले में पूछताछ के लिए बुलाए गए अंगरक्षक उमेश सिंह की घबराहट का भी फायदा पुलिस को मिला और उससे वह सबकुछ उगलवा लिया गया जिसे राज रखने की चाल चली गई थी। इधर पूर्व सांसद विजय कृष्ण द्वारा दिया गया बयान झूठा साबित होने के बाद अब सवाल यह उठने लगा है कि सत्येन्द्र के साथ झूला अपार्टमेंट में जो कुछ हुआ वह अप्रत्याशित था, जिसकी सांसद को अपेक्षा नहीं थी। इस मामले के चश्मदीद गवाहों के कलमबंद बयान और सत्येन्द्र के परिजनों की मानें तो खुद और अपने बेटे को बचाने के लिए विजय कृष्ण ने मुख्यमंत्री से मुलाकात की और कथित रूप से अगवा सत्येन्द्र की बरामदगी का आग्रह कर एक लंबी चाल चली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पूर्व सांसद के बयान का क्या है राज