class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कई रिकार्डों पर भी रहेगी भारत की नजर

कई रिकार्डों पर भी रहेगी भारत की नजर

इंग्लैंड में पांच जून से शुरू हो रहे दूसरे टी20 क्रिकेट वर्ल्ड कप में भारतीयों की निगाहें अपना खिताब बचाने के साथ-साथ कुछ रिकार्ड हासिल करने पर भी लगी रहेंगी।

भारत के ओपनर गौतम गंभीर, मध्यक्रम के धुरंधर बल्लेबाज युवराज सिंह और बाएं हाथ के तेज गेंदबाज आरपी सिंह के पास इस वर्ल्ड कप में कुछ नए रिकार्ड बनाने का मौका रहेगा जबकि कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी वर्ल्ड कप में विकेटकीपिंग का अपना खराब रिकार्ड सुधारने की कोशिश करेंगे।

भारत की पिछले वर्ल्ड कप में खिताबी जीत में प्रमुख भूमिका निभाने वाले ओपनर गंभीर इस टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया के मैथ्यू हेडन का सर्वाधिक रनों का रिकार्ड तोड़ने की फिराक में रहेंगे। हेडन ने पिछले विश्वकप में छह मैचों में 88.33 के औसत से 265 रन बनाए थे जबकि गंभीर ने सात मैचों में 37.83 के औसत से 227 रन बनाए थे।

गंभीर हालांकि दक्षिण अफ्रीका में हाल में समाप्त हुए आईपीएल के दूसरे टूर्नामेंट में अपनी प्रतिष्ठा के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाए थे लेकिन उनके पास इस विश्वकप में हेडन को पीछे छोड़ने का पूरा मौका रहेगा। हेडन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके हैं।

पिछले वर्ल्ड कप में एक ओवर में छह छक्के मारने का रिकार्ड बनाने वाले युवराज के निशाने पर तो कई रिकार्ड रहेंगे। वह टूर्नामेंट में सर्वाधिक छक्के के मारने के मामले में इस समय वे दूसरे स्थान पर हैं। उन्होंने छह मैचों में 12 छक्के लगाए हैं जबकि न्यूजीलैंड के क्रेग मैकमिलन छह मैचों में 13 छक्के लगाकर चोटी पर हैं।

युवराज टी20 क्रिकेट में सर्वाधिक छक्कों का न्यूजीलैंड के ब्रैंडन मैकुलम का रिकार्ड तोड़ने के भी नजदीक हैं। ब्रैंडन ने जहां 21 मैचों में 23 छक्के मारे हैं वहीं युवराज 10 मैचों में 21 छक्के उड़ाकर दूसरे स्थान पर हैं। युवराज इस वर्ल्ड कप में टी20 में तीन सौ रन पूरे करने वाले दूसरे भारतीय भी बन सकते हैं। युवराज के इस समय दस मैचों से 262 रन हैं। भारत में उनसे आगे सिर्फ गंभीर हैं जिनके 12 मैचों से 328 रन हैं।

आईपीएल-टू में सर्वाधिक विकेट लेने वाले आरपी सिंह वर्ल्ड कप में सात मैचों में 12 विकेट हासिल कर चुके हैं और वह वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के तेज गंेदबाज उमर गुल का सात मैचों में 13 विकेट लेने का रिकार्ड पीछे छोड़ सकते हैं। भारतीय आलराउंडर इरफान पठान सात मैचों में दस विकेट लेकर इस होड़ में शामिल हैं।

भारतीय कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी का वर्ल्ड कप में विकेटकीपिंग के मामले में बडा ही दिलचस्प प्रदर्शन है। उन्होंने अपने नेतृत्व में भारत को पिछले वर्ल्ड कप में खिताबी जीत दिलाई थी लेकिन विकेट के पीछे वह सात मैचों में मात्र एक शिकार कर पाए थे। वर्ल्ड कप में आस्ट्रेलिया के पूर्व विकेटकीपर एडम गिलक्रिस्ट छह मैचों में नौ शिकार के साथ चोटी पर हैं।

धोनी इस बार चाहेंगे कि टीम इंडिया अपना पिछला प्रदर्शन बरकरार रखते हुए न केवल दोबारा खिताब जीते बल्कि विकेट के पीछे वह अपने शिकारों की संख्या में भी अच्छी खासी वृद्धि करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कई रिकार्डों पर भी रहेगी भारत की नजर