class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपनी रक्षा स्वयं करें भारतीय छात्र: समिति

अपनी रक्षा स्वयं करें भारतीय छात्र: समिति

ऑस्ट्रेलिया में भारतीय छात्रों पर हमले की लगातार वारदातों के बाद गठित समिति ने कहा है कि यहां भारतीय छात्रों का अपना एक अधिकारी होना चाहिए, जिसके पास वे संकट के समय मदद के लिए जा सकें।

समिति ने यह भी कहा कि विश्वविद्यालयों को पहले छह महीने तक भारतीय छात्रों के हर तरह की सुविधाएं मुहैया करानी चाहिए। इस बात पर जोर देते हुए कि ‘ऑस्ट्रेलिया नस्लीय भेदभाव वाला देश नहीं है’ समिति के समन्वयक यदु सिंह ने कहा, ‘‘अधिकांश हमले मौका देखकर किए गए और कई कारणों से हमारे छात्र उनके लिए आसान शिकार रहे हैं।’’

उन्होंने कहा कि भारतीय छात्रों के मुद्दे पर इस सामुदायिक समिति का गठन यहां स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास से चर्चा के बाद किया गया है। समिति यह देखेगी कि छात्रों की रक्षा के लिए क्या किया जा सकता है?

सिंह ने भारतीय छात्रों के स्वास्थ्य और आपातकालीन बीमा कराने की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि अगर इस मुद्दे को पहली प्राथमिकता नहीं दी गई तो आस्ट्रेलिया का 15 अरब डॉलर का कारोबार खतरे में पड़ जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपनी रक्षा स्वयं करें भारतीय छात्र: समिति