class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

थानों पर भ्रष्टाचार रोकें अफसर : सीएम

बोलीं-ानता की समस्याएँ निपटाएँड्ढr विकास कार्य देखने खुद करंगी दौराड्ढr लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के अगले ही दिन मुख्यमंत्री मायावती ने आला अफसरों को शास्त्री भवन में बुलाकर उनके पेंच कसे। मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनाव के प्रचार के दौरान उन्होंने महसूस किया कि लोगों की शिकायतों का निस्तारण नहीं किया जा रहा है। अब अधिकारी सतर्क हो जाएँ। थानों में फैले भ्रष्टाचार पर फौरन अंकुश लगाया जाए। अधिकारी मौके पर जाकर विकास कार्यो का सच जानें और हर महीने उसकी रिपोर्ट दें। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह खुद भी स्थलीय निरीक्षण करंगी। कमिश्नरों को तहसील दिवस और थाना दिवस को और प्रभावी बनाने की हिदायत दी गई।ड्ढr मुख्यमंत्री निर्देश दिया कि अफसर 10 से 12 बजे तक दफ्तरों में जनता की समस्याएँ सुनें। हर महीने विभागीय मंत्रियों की अध्यक्षता में विकास कार्यो की समीक्षा की जाए। डॉ.अम्बेडकर ग्राम सभा योजना, मान्यवर कांशीराम जी शहरी विकास योजना का बारीकी से सत्यापन किया जाए। जिलों के भ्रमण के दौरान प्रमुख सचिव कम से एक दलित बस्ती में जाकर वहाँ कराए गए कार्यो को परखें और लोगों की शिकायतें सुनें। इसमें शिथिलता बरतने वाले अधिकारियों को दंडित किया जाए। समीक्षा बैठक में कैबिनेट सचिव, अपर कैबिनेट सचिव, प्रमुख सचिव गृह, डीाीपी, एडीाी (कानून व्यवस्था) समेत कई आला अधिकारी मौजूद थे।ड्ढr ड्ढr केन्द्रीय कैबिनेट में यूपी कोटे से हो सकते हैं पाँच मंत्रीड्ढr दयाशंकर शुक्ल सागर लखनऊड्ढr नई सरकार के मंत्रिमंडल के लिए यूपी से योग्य सांसदों की खोज शुरू हो गई है। पिछली सरकार में यूपी कोटे से केन्द्रीय कैबिनेट में केवल तीन सांसद थे। महावीर प्रसाद, श्रीप्रकाश जायसवाल, और जितिन प्रसाद। तब यूपी से कांग्रेस के सिर्फ नौ सांसद थे। अब यूपी से 21 सांसद हैं। प्रतिनिधित्व के लिहाज इस बार यूपी कोटे से पाँच या उससे ज्यादा मंत्री नियुक्त किए जा सकते हैं।ड्ढr पार्टी के सूत्र बताते हैं कि इस बार केन्द्रीय कैबिनेट के लिए राहुल गांधी का भी नाम चर्चा में है। कांग्रेस का एक गुट चाहता है कि वह संगठन की बजाय सरकार में शामिल हों। हालाँकि राहुल अभी सरकार से बाहर रहकर संगठन को और मजबूत बनाना चाहते हैं। गृहराज्य मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल, इस्पात राज्य मंत्री जितिन प्रसाद का दोबारा मंत्रिमंडल में शामिल रहना तय माना जा रहा है। सलमान खुर्शीद वाणिज्य राज्यमंत्री और विदेश राज्यमंत्री रह चुके हैं। उन्हें भी मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। इसी तरह बेनी प्रसाद वर्मा भी संचार मंत्री रह चुके हैं और उनका भी मंत्रिमंडल में रहना तय माना जा रहा है। सुलतानपुर से सांसद संजय सिंह भी मंत्री बनने की रेस में हैं। वह केन्द्र में मंत्री रह चुके हैं। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अजरुन सिंह के करीबी जगदम्बिका पाल भी दौड़ में हैं।ड्ढr दलित नेता महावीर प्रसाद इस बार चुनाव हार गए हैं। अत: नए दलित चेहरे के तौर पर हाईकमान बाराबंकी के सांसद पीएल पुनिया पर विचार कर सकता है। उन्हें प्रशासनिक अनुभव भी है। हालाँकि एक गुट यह चाहता है कि यूपी में मुख्यमंत्री मायावती को चुनौती देने के लिए उन्हें संगठन में जिम्मेदारी दी जाए। केन्द्रीय मंत्रिमंडल में महिला के प्रतिनिधित्व के नाम पर अनु टंडन का नाम भी चर्चा में है। उन्होंने उन्नाव से तीन लाख से ज्यादा वोटों से जीत हासिल की है। नए चेहरों को मौका देने के लिए कांग्रेस इस बार डिप्टी मिनिस्टर नियुक्त करने के विकल्प पर भी विचार कर रहा है। हाईकमान का इरादा युवा मंत्रियों को प्रशिक्षण देना है ताकि आगे चल कर वे राहुल गांधी की टीम के सिपाहसालार बने। यूपी से छह मंत्री बनाने की अपील करेंगे: रीताड्ढr प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि यूपी में कांग्रेस का प्रतिनिधित्व बढ़ा है इसलिए वह हाईकमान से यूपी कोटे में इस बार छह मंत्री बनाने की अपील करेंगी। रीता ने रविवार को कहा कि अब मंत्रिमंडल में यूपी का प्रतिनिधित्व बढ़ना चाहिए। उन्होंने मंत्रिमंडल में अपने शामिल होने की संभावना से साफ इनकार कर दिया।ड्ढr ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: थानों पर भ्रष्टाचार रोकें अफसर : सीएम