class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लालू-मुलायम हिस्सा बनने को बेकरार

राजद और समाजवादी पार्टी यूपीए से अलग होकर चुनाव लड़ने के बावजूद सत्ता का स्वाद चखने के लिए बेकरार है। राजद के नेता लालू प्रसाद ने कहा है कि उनकी पार्टी केन्द्र की यूपीए सरकार को समर्थन देंगी और सरकार में शामिल भी होगी। उन्होंने कहा कि वह सोमवार को दिल्ली में होने वाली कैबिनेट की मीटिंग में भी हिस्सा लेंगे। दूसरी ओर कांग्रेस का मानना है कि सरकार गठन के लिए कांग्रेस को लालू और पासवान की जरूरत नहीं है। वहीं झारखंड से निर्दलीय जीते मधु कोड़ा और बिहार के बांका सीट से निर्दल प्रत्याशी के तौर पर विजयी रहे दिग्विजय सिंह सहित कनार्टक की जदएस व अन्य कई दलों ने कांग्रेस को समर्थन देने का संकेत दिया है।ड्ढr ड्ढr इससे पहले कांग्रस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रल मंत्री लालू प्रसाद को फोन कर उनसे सोमवार की कैबिनेट की बैठक में शामिल होने को कहा था। गौरतलब है कि रामविलास पासवान और मुलायम सिंह यादव के साथ के साथ चौथा मोर्चा बनाने के बाद से लालू यादव कैबिनेट की मीटिंग में नहीं जा रहे थे। दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी के नेता अमर सिंह ने भी इशारों-इशारों में कांग्रस को समर्थन देने और सरकार में शामिल होने की इच्छा जता दी है। संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा, ‘हमें इस बात की खुशी है कि धर्मनिरपेक्ष ताक तें प्रगति कर रही हैं। हमने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी और राहुल गांधी से बात की है और उन्हें जीत पर बधाई दी। जब उनसे पूछा गया कि क्या समाजवादी पार्टी सरकार का हिस्सा बनेगी, तो उन्होंने जवाब दिया कि यह प्रधानमंत्री का विशेषाधिकार है। वह बोले ‘हम धर्मनिरपेक्ष और गैर-सांप्रदायिक सरकार का समर्थन करंगे लेकिन इसका स्वरूप क्या होगा, यह पूरी तरह से उनपर निर्भर है। इसके बाद उन्होंने अपने ही अंदाज में कहा, हम तो दाता हैं और समर्थन करने को तैयार हैं। इससे पहले कांग्रस के राजीव शुक्ला ने साफ शब्दों में कहा था कि लालू प्रसाद और मुलायम सिंह यादव कांग्रस के प्रमुख सहयोगी नहीं हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लालू-मुलायम हिस्सा बनने को बेकरार