class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोवा संकट थमने के आसार

गोवा में दिगंबर कामत सरकार का संकट समाप्त होने के कगार पर है। इसके लिए कांग्रेस गठबंधन सरकार में शामिल एनसीपी व कुछ अन्य असंतुष्ट विधायकों की अधिकतर मांगों पर सहमत हो गई है। इसकी घोषणा मुख्यमंत्री कामत एक-दो दिन में पणजी में कर सकते हैं। यूपीए सूत्रों के अनुसार कामत अगले कुछ दिनों में मंत्रिमंडल का विस्तार तथा मंत्रियों के विभागों में फेरबदल करेंगे। यह सहमति शनिवार को एनसीपी नेता एवं केंद्रीय मंत्री प्रफुल्ल पटेल के निवास पर एक बैठक में बनी। एनसीपी सूत्रों के अनुसार साझा सरकार के सभी घटकों को शामिल कर एक समन्वय समिति बनाने पर सहमति हुई है जो नीतिगत मामलों पर सरकार को सुझाव देगी। यह समिति सरकार में शामिल घटकों और निर्दलीय विधायकों के बीच उठने वाले विवादास्पद मुद्दों को भी सुलझाएगी ताकि ऐसे मुद्दे सार्वजनिक तौर पर न उठें। बैठक में एनसीपी महासचिव डी.पी. त्रिपाठी, कांग्रेस के गोवा मामलों के प्रभारी महासचिव बी.के. हरि प्रसाद, मुख्यमंत्री कामत, मंत्री पद से त्यागपत्र देने वाले गोवा एनसीपी के सदस्य व निर्दलीय विश्वजीत सिंह राणे भी शामिल थे। बताया जाता है कि संकट के समाधान में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के हस्तक्षेप ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने शुक्रवार रात यहां कामत तथा पार्टी के वरिष्ठ नेताआें ए.के. एंटनी, अहमद पटेल तथा बी.के. हरि प्रसाद के साथ पूरी स्थिति की समीक्षा की और मंत्रिमंडल विस्तार तथा विभागों में फेरबदल की सलाह दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गोवा संकट थमने के आसार