class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नकली कलेजे के टुकड़े से धड़केगा दिल

वैज्ञानिकों ने स्तंभ कोशिका से कलेजे का टुकड़ा विकसित करने में सफलता हासिल कर ली है जिससे दिल का दौरा पड़ने के बाद हुए नुकसान की भरपाई की जा सकेगी। लंदन के इंपीरियल कॉलेज की वैज्ञानिक सियान हाडिर्ंग ने गुरुवार को बताया कि भ्रूण की स्तंभ कोशिका से ऊत्तक निकालकर ऐसा टुकड़ा विकसित किया है जिसे दिल के दौरे से क्षतिग्रस्त हिस्से पर चिपकाकर या सिलकर मांसपेशियों को फिर से ठीक किया जा सकता है। दिल का दौरा पड़ने से उसके मांस के एक खास टुकड़े को खून मिलना बंद हो जाता है और ऑक्सीजन न मिलने से वहां की कोशिका मर जाती है। सुश्री हार्डिंग ने एक साक्षात्कार में कहा कि हमें इतना बड़ा टुकड़ा विकसित करना था जो दिल के क्षतिग्रस्त हिस्से को पूरी तरह ढक ले। यह टुकड़ा दिल की मांसपेशियों के समान ही लचीला है। दुनिया के विभिन्न हिस्सों में वैज्ञानिक स्तंभ कोशिका से दिल के दौरे के दौरान होने वाले नुकसान की मरम्मत के क्षेत्र में काम कर रहे हैं लेकिन असली चुनौती इन कोशिकाआें को इस तरह से विकसित करना है ताकि ये ठीक से काम कर सकें। सुश्री हार्डिंग ने बताया कि उनके दल ने जो टुकड़ा विकसित किया है वह दिल के साथ ही धड़केगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नकली कलेजे के टुकड़े से धड़केगा दिल