class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माया दलित हितों के खिलाफ कर रही हैं काम : पासवान

लोक जनशक्ित पार्टी के अध्यक्ष, केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान ने बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती पर राज्य में ‘मनुवादी सरकार’ चलाने का आरोप लगाते हुए कहा है कि दलितों के बीच अपने छीजते जनाधार को एकजुट रखने के लिए ही वह खुद के प्रधानमंत्री बनने के सपने बेच रही हैं। श्री पासवान ने हिन्दुस्तान से कहा कि लोकसभा का अगला चुनाव उनकी पार्टी अपने बूते लड़ेगी लेकिन यूपीए के साथ बनी रहेगी। भाजपा और उसके नेतृत्व वाले राजग के साथ कतई नहीं जाएगी।श्री पासवान ने आरोप लगाया कि मायावती ने अपने पिछले मुख्यमंत्रीकाल से ही मनुवादियों को खुश करने के लिए अपनी नीतियां उसी अनुरूप ढालनी शुरू कर दी थीं। उन्होंने भाजपा के दबाव में दलित ऐक्ट को खत्म कर दिया था जबकि कई अन्य राज्यों यह ऐक्ट अभी भी लागू है। उन्होंने कहा कि लोजपा इस ‘मनुवादी सरकार’ के खिलाफ पांच फरवरी को अपनी जिन 16 सूत्री मांगों के समर्थन में प्रत्येक जिला मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन करेगी, उनमें दलित ऐक्ट को बहाल करने की मांग प्रमुख है। उन्होंने निजी क्षेत्र में अनुसूचित जातियों के लिए सिर्फ दस फीसदी आरक्षण के मायावती सरकार के निर्णय की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि सरकारी नौकरियों की तरह ही निजी क्षेत्र की नौकरियों में भी उन्हें 22 फीसदी आरक्षण की सुविधा मिलनी चाहिए। श्री पासवान ने मायावती सरकार पर दलित हितों के विरु काम करने के आरोप लगाते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में जिन 18 हजार सिपाहियों को बर्खास्त किया गया है उनमें चार हजार दलित हैं। गंगा एक्सप्रेस वे के नाम से शुरू की जा रही उनकी महत्वाकांक्षी परियोजना में भी बड़े पैमाने पर दलितों केड्ढr मकान तोड़ जाने हैं।ड्ढr लोजपा नेता ने आरोप लगाया कि एक तरफ तो मायावती ने मुलायम सिंह यादव की सरकार द्वारा शुरू किए गए बेकारी भत्ता, कन्या धन, आपातकाल के दौरान जेल गए राजनीतिक पीड़ितों को दी गई पेंशन को रद्द कर दिया है, मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही उन्होंने पूरे प्रदेश में पासी समाज के लोगों को डाकू-चोर कह कर गिरफ्तार और प्रताड़ित करना शुरू करवा दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: माया दलित हितों के खिलाफ कर रही हैं काम