class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सामान खरीदते वक्त जरा वजन भी चेक कर लें

आपको शायद पता नहीं कि उपभोक्ता उत्पाद बनाने वाली नामचीन कंपनियां कितनी सफाई से आपको चूना लगा रही हैं। चीजों के दाम बढ़ रहे हैं और आपकी रसोई का वजन घट रहा है। कैसे घट रहा है यह जानने के लिए मैगी का जाना-पहचाना पैकेट खरीद लीजिए। सौ ग्राम के इस पैकेट का वजन अब ग्राम है। इसी तरह रड लेबल का 250 ग्राम का पैकेट, अब 245 ग्राम में आता है। सामान में पांच ग्राम की कटौती और दाम वही का वही। जहां एक ओर उपभोक्ता दालों और सब्जियों की बढ़ती कीमतों का रोना रो रहे हैं और सरकार निर्यात पर पाबंदी से लेकर तमाम जुगाड़ लगा दाम थामने में लगी है वहीं बड़ी-बड़ी कंपनियों ने अपने उत्पादों की मात्रा में कटौती कर दी है। यह सब इतने सलीके से किया गया कि आपको पता ही न चले।ड्ढr ड्ढr कुछ प्रोडक्ट्स में जबरदस्त कटौती हुई है। व्हील वाशिंग पाउडर ने अपने एक किलो के पैकेट को घटा कर 800 ग्राम का कर दिया है और दाम वही है 21 रुपये। और भी बहुत कुछ है, नेस्ले का एव्री डे व्हाइटर अब 10 ग्राम कमी के साथ आता है। इसका जाना-पहचाना 200 ग्राम का पैकेट अब 10 ग्राम में आता है, जो कि बहुत असामान्य है। बिस्किट के पैकेट भी हल्के हो गए हैं। दस रुपये में आपको गुड डे का100 ग्राम का जो पैकेट मिलता था अब उसमें 8-10 ग्राम की कटौती कर दी गई है।ड्ढr ड्ढr अब अगर कानून के हिसाब से बात करं तो यह गैर कानूनी नहीं है। मगर क्या यह सही है। जो लोग पैकेट पर वजन पढ़ लेते हैं वो अभी भी यह समझ रहे हैं कि यह कोई प्रिटिंग मिस्टेक है। रोहिणी की पूनम धमीजा कहती हैं, ‘क्या यह मजाक है? जब कंपनियां उसी कीमत पर उत्पाद की मात्रा बढ़ाती हैं तो डंका पीटकर ऐलान करती हैं। अब क्या हुआ?’ड्ढr दूसरी ओर नेस्ले के प्रवक्ता हिमांशु मांगलिक इसे कीमतें स्थिर बनाए रखने के लिए की गई ‘एडास्टमेंट’ बताते हैं। ब्रिटानिया के उपाध्यक्ष नीरा चंद्रा कहते हैं, ‘पिछले सात सालों में बिस्किट कंपनियों ने कभी दाम नहीं बढ़ाए। गेहूं और अन्य चीजों की बढ़ती कीमतों के मद्देनजर पैकेट का साक्ष कम करना पड़ा।’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सामान खरीदते वक्त जरा वजन भी चेक कर लें