class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीएससी पार्ट-2 में पूछे गए पार्ट-1 के सवाल

स्नातक की परीक्षाओं में सिलेबस से बाहर के प्रश्न पूछे जाने का सिलसिला लगातार जारी है। गुरुवार को साइंस कॉलेज व मगध महिला कॉलेज केंद्रों पर स्नातक विज्ञान द्वितीय वर्ष की सब्सिडियरी परीक्षा के दौरान फिर हद हो गयी। छात्रों को जब प्रश्न मिला तो उनके होश उड़ गए। प्रश्न पत्र में तो प्रथम वर्ष के प्रश्न पूछे गए थे। इसको देख साइंस कॉलेज केंद्र पर परीक्षार्थियों ने हंगामा शुरू कर दिया। हालांकि डा. अमरेंद्र नारायण के साथ मारपीट व उसके बाद छात्रों को विवि व परीक्षा से निष्कासन की घटना से सहमे छात्रों ने दबी जुबान से हंगामा किया लेकिन उन्होंने इस प्रश्न के आधार पर परीक्षा देने से मना कर दिया।ड्ढr ड्ढr इसके बाद पूरे मामले की सूचना विवि प्रशासन को दी गयी। विवि प्रशासन ने आनन-फानन में केंद्र पर भूगर्भशास्त्र के विभागाध्यक्ष को भेजा। उन्होंने भी प्रश्न को सिलेबस से बाहर का बताया। इसके बाद परीक्षा विभाग (शेष पेज 15 पर)ड्ढr ने तत्काल इस विषय के प्रश्न की आफिस कॉपी को निकलवाया। वहां पर द्वितीय वर्ष का प्रश्न सेटर द्वारा भेजा गया था। इस ऑफिस कॉपी को तत्काल फोटो स्टेट करवाया गया और उसे केंद्र पर भेजा गया। विवि प्रशासन इस पूरे मामले को सेटर की गलती मानते हुए इसमें अपनी संलिप्तता से पल्ला झाड़ रहा है। हालांकि छात्रों के मुताबिक आनन-फानन में विभागाध्यक्ष को बुलाकर नए सिर से प्रश्न सेट कराया गया और उसकी छायाप्रति परीक्षार्थियों तक पहुंचायी गयी। वर्ष 2008 की परीक्षाओं में यह पांचवां मामला है जब परीक्षा में प्रश्न सिलेबस से बाहर का पूछे जाने का आरोप लगा है। इसमें से मामलों में विवि प्रशासन ने गलती मानते हुए पुनर्परीक्षा के निर्देश जारी किए। इस संबंध में पूछे जाने पर परीक्षा नियंत्रक प्रो. सुरेंद्र स्निग्ध ने कहा कि सेटर द्वारा प्रिंटिंग प्रेस को जो कॉपी भेजी गयी उसमें ही गलती थी। विवि प्रशासन ने प्रिंटिंग प्रेस से सेटर द्वारा भेजे गए प्रश्न की कॉपी भी मंगाकर जांच की और उसमें गलती पाया। इस पूरे मामले में छात्रों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। उनका आधे घंटे से अधिक समय बर्बाद हो गया और इससे उन्हें परेशानी झेलनी पड़ी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बीएससी पार्ट-2 में पूछे गए पार्ट-1 के सवाल