class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मारुति कंपनी को खराब गाड़ी के बदले नई देने का आदेश

एक कार उपभोक्ता को राज्य उपभोक्ता आयोग ने बड़ी राहत दी है। आयोग ने पुरानी कार के बदले नई कार देने का आदेश मारुति कम्पनी को दिया है। साथ ही बतौर खर्चा दस हजार रुपए भी देने का आदेश दिया। आयोग ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि यदि उपभोक्ता नई कार के बदले कार की कीमत लेना चाहता हो तो वह राशि प्रतिशत ब्याज से साथ वापस कर दी जाए।ड्ढr ड्ढr बिहारशरीफ की डाक्टर मंजू सिन्हा ने एक मारुति जेन कार 1में कारलो से खरीदी थी। कुछ दिनों के बाद दी गाड़ी में खराबी आ गई। शिकायत करने पर वारंटी अवधि के दौरान कम्पनी ने गाड़ी की मरम्मत करवा दी। लेकिन इसके बावजूद गाड़ी कभी भी ठीक से नहीं चली। कम्पनी से डाक्टर सिन्हा ने जब गाड़ी बदलने की बात कही तो कम्पनी ने उसे स्वीकार नहीं किया। तब उन्हें उपभोक्ता अदालत का सहारा लेना पड़ा। जिला फोरम में कम्पनी को मात खानी पड़ी और डाक्टर सिन्हा को राहत मिली। कम्पनी ने फोरम के आदेश के खिलाफ राज्य आयोग में अपील दायर किया पर वहां भी उसे मुंह की खानी पड़ी। आयोग ने उपभोक्ता को राहत देते हुए मारुति कंपनी की अपील को खारिज कर दिया। आयोग ने उपभोक्ता को यह विकल्प भी दिया है कि यदि वह इसी कम्पनी की दूसरी गाड़ी खरीदना चाहता है तो वह अन्तर राशि अदाकर दूसरी गाड़ी ले सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मारुति कंपनी को खराब गाड़ी के बदले नई देने का आदेश