class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जवानों की शहादत भी भूली सरकार

र्तव्य की बलिवेदी पर शहीद होने वाले सपूतों के लिए प्रसिद्ध कवि स्व. प्रदीप की पंक्ति ‘.जो शहीद हुए हैं उनकी जरा याद करो कुर्बानी’ शायद बिहार के शासक-प्रशासक को याद नहीं रहती। शहीदों के प्रति सरकार की उदासीनता के उदाहरण हैं उग्रवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए सूबे के 17 पुलिसकर्मी। इन पुलिसकर्मियों के आश्रितों को सरकार द्वारा घोषित अनुग्रह राशि का महीनों से इंतजार हैं। कई शहीदों के परिानों को तो अब दो जून की रोटी के भी लाले पड़ रहे हैं। बीते आठ माह में राज्य में शहीद हुए 17 पुलिसकर्मियों के परिानों को अबतक किसी प्रकार की कोई सहायता राशि नहीं मिली। अपवादस्वरूप पटना के परिचारी प्रवर हरिनारायण साह के आश्रित को पुलिस सहायता कोष से एक लाख की राशि दी गई है।ड्ढr ड्ढr सूत्रों के अनुसार अनुग्रह राशि मद में वित्त विभाग ने एक दिन पहले ही(15 अप्रैल को) गृह विभाग को दो करोड़ रुपए जारी किया है, पर यह राशि शहीदों के आश्रितों तक कब तक पहुंचेगी, कहना मुश्किल है। शहीद साथियों के परिजनों के लिए संघ क्या कर रहा है, के सवाल पर बिहार पुलिस एसोसिएशन के उपाध्यक्ष सह प्रवक्ता अभिनंदन यादव कहते हैं कि संघ इस दिशा में हमेशा प्रयासरत रहा है। हालांकि राज्य के पुलिस प्रमुख शिवचंद्र झा ने आवंटन की पुष्टि करते हुए कहा कि इस माह के अंत तक शहीदों के परिानों को अनुग्रह राशि दे दी जाएगी। रविवार को झाझा रलवे स्टेशन सहित पिछले आठ माह में पुलिस बल पर उग्रवादियों के कम से कम दस हमले हुए हैं। इन हमलों में सैप के सात जवानों सहित कुल 17 पुलिसकर्मी शहीद हुए। इनके आ श्रितों को अनुग्रह राशि का इंतजार है।ड्ढr ड्ढr वे शहीद जिनके आश्रितों को अबतक नहीं मिली अनुग्रह राशिड्ढr सिपाही3 सुमन कुमार सिंह जमुईड्ढr सैप3252 अजरुन सिंह सहरसाड्ढr सिपाही256 फुलचंद मुंडा रोहतासड्ढr सिपाही105 अजीव कुमार खगड़ियाड्ढr सिपाही86 नीरा कुमार सिंह बांकाड्ढr अनि सह थाना प्रभारी मोहन लाल सिंह कटिहारड्ढr परिचारी प्रवर हरिनाथ साह पटनाड्ढr सिपाही3618 अशोक कुमार सिंह पटनाड्ढr सैप1256 शौकत अली मुंगेरड्ढr सैप1431 दिनेश सिंह मुंगेरड्ढr सैप1418 नवीन कुमार मुंगेरड्ढr सैप1415 अरविन्द कुमार मुंगेरड्ढr इनके अलावा रविवार को झाझा रलवे स्टेशन पर उग्रवादी हमले में एक एएसआई, दो कांस्टेबल व सैप के दो जवान शहीद हुए।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जवानों की शहादत भी भूली सरकार