class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली बोर्ड ने की रिकार्ड राजस्व वसूली

बिहार बिजली बोर्ड ने बीते वर्ष रिकार्ड राजस्व वसूली की है। मार्च में समाप्त हुए वित्तीय वर्ष में बोर्ड ने 1300 करोड़ रुपए से अधिक की राशि वसूली की। इस तरह पहली बार बिजली बोर्ड का राजस्व वसूली का आंकड़ा एक हजार करोड़ रुपए के पार गया है। एक वर्ष पूर्व बोर्ड ने रोड़ रुपए की अधिकतम वसूली की थी। बीते वर्ष बोर्ड की राजस्व वसूली गत वर्ष की तुलना में 36 फीसदी अधिक रही। यह सफलता इसी बात से खास हो जाती है कि बोर्ड की सालाना वृद्धि कभी भी दहाई अंक में भी नहीं पहुंच पाई थी। यह अधिकतम 8 फीसदी रही है। वर्ष 2002-03 से 2003-04 के बीच वृद्धि दर महज डेढ़ फीसदी थी।ड्ढr ड्ढr बिजली बोर्ड की इस कामयाबी से राज्य सरकार भी उत्साहित है। सरकार वसूली अभियान के हीरो अधिकारियों व अभियंताओं को पुरस्कृत करने की योजना बना रही है। बिजली बोर्ड मुख्यालय से मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2007-08 में बोर्ड ने 1304.73 करोड़ रुपए की वसूली की जबकि वर्ष 2006-07 में वसूली रोड़ रुपए थी। हालांकि इस वर्ष ओटीएस के रूप में 202.36 करोड़ रुपए की अलग से वसूली की गई थी। बीते वर्ष बोर्ड ने लगभग 350 करोड़ रुपए की वृद्धि की, जबकि उसके पूर्व यह वृद्धि महज 56 करोड़ रुपए की ही थी। बिजली बोर्ड के अध्यक्ष स्वपन मुखर्जी के दिशा-निर्देश का ही परिणाम रहा कि बोर्ड का वसूली अभियान पहली बार एक हजार करोड़ रुपए से अधिक रहा।ड्ढr ड्ढr बोर्ड अध्यक्ष के निर्देशों के आधार पर राजस्व वसूली अभियान में बोर्ड के वित्त नियंत्रक एस.एस.पी. सिंह और राजस्व निदेशालय के अथक परिश्रम ने यह शानदार उपलब्धि प्रदान की। अध्यक्ष स्वपन मुखर्जी ने राजस्व वसूली में पहली बार एक हजार करोड़ रुपए के ग्राफ को पार करने के लिए बोर्डकर्मियों को बधाई दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिजली बोर्ड ने की रिकार्ड राजस्व वसूली