class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एचइसी को भिलाई से मिला 1038 करोड़ का कार्यादेश

। एचइसी ने भिलाई स्टील प्लांट से 1038 करोड़ का कार्यादेश लेने में सफलता हासिल की है। एचइसी के इतिहास में इतना बड़ा कार्यादेश किसी कंपनी से एक बार में पहले नहीं मिला था। एचइसी की क्षमता और इसके अनुभव के कारण यह कार्यादेश मिला है। कार्यादेश हासिल करने में एचइसी ने भेल को पछाड़ा है। भिलाई स्टील प्लांट ने अपने ओर हैंडलिंग प्लांटों में सुविधाएं हैंडलिंग क्षमता बढ़ाने के लिए निविदा निकाली थी। इसमें एचइसी, भेल के अलावा कई प्रमुख कंपनियों ने हिस्सा लिया था। कार्यादेश मिलने के 30 माह के अंदर इस काम को पूरा करना होगा। इस टर्नकी प्रोजेक्ट का पूरा काम एचइसी ही करगा। डिााइन, इंजीनियरिंग, निर्माण, आपूर्ति, जांच और इसे चालू करने का काम भी एचइसी को करना होगा। इस प्रोजेक्ट के लिए एचइसी को वैगन टिपलर, साइड आर्म चार्जर, एप्रोन फीडर, पैडर फीडर एवं अन्य महत्वपूर्ण उपकरणों का निर्माण करना होगा। एचइसी ने नयी योजना के तहत टर्नकी प्रोजेक्ट का काम लेना शुरू किया है। इसमें इसे काफी सफलता मिल रही है। एचइसी के कंपनी सचिव एके कंठ ने बताया कि इसके पूर्व भी भिलाई स्टील से 700 एवं राउरकेला स्टील से 770 करोड़ का कार्यादेश एचइसी को मिलने वाला है। एसआर सहाय के नेतृत्व में एचइसी की प्रोजेक्ट डिवीजन की टीम इस काम में जुटी है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एचइसी को भिलाई से मिला 1038 करोड़ का कार्यादेश