class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बरियातू की डगर पर चलना जरा संभल कर

बरियातू रोड चौड़ा हो रहा है। काम जसे-तैसे चल रहा है। इधर गड्ढा-उधर गड्ढा। 17 करोड़ से अधिक की लागत से बन रही सड़क में क्वालिटी ढूंढना बेवकूफी ही होगी। न योजनाबद्ध तरीके से काम, न कोई मॉनिटरिंग, लोग परशान हैं। हाल यह है कि एकाध इंच दायें-बायें हुए, तो सीधे 15-20 फीट गहर गड्ढे में गिरंगे। आने-ााने वाला हर कोई परशान है। इस सड़क पर चार माह से काम चल रहा है। बूटी मोड़ से राजभवन चौराहे तक सड॥क चौड़ी की जानी है। लेकिन अब तक किसी हिस्से में काम पूरा नहीं हो सका है। बड़ी गाड़ियों का आना-ााना लगा रहता है। रात में दुर्घटना की आशंका ज्यादा रहती है। बूटी मोड़ के कुछ आगे तक दोनों ओर के गे भर दिये गये हैं। लेकिन उसके आगे जहां-तहां बायें-दायें गड्ढे हैं। सड॥क जहां चौड़ी की गयी है, ढलाई के कारण वह हिस्सा ऊंचा हो गया है। सैनिक थियेटर के पास तो यह आधा फीट तक ऊंचा है। ढलाई का कोर भी अभी से टूटने लगा है। हर रात दो-चार स्कूटर या बाइक वाले पटकाते हैं। यह सड़क है भी काफी व्यस्त। इससे कभी भी कोई बड़ा हादसा होने की आशंका रहती है। करमटोली के पास खतरा सबसे अधिक होता है। काम की रफ्तार भी ऐसी कि चार माह में मिशन चौक से लेकर रांची कॉलेज मोड़ तक सिर्फ एक किनार ही गड्ढा खुदा है और कुछ जगहों पर ढलाई हुई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बरियातू की डगर पर चलना जरा संभल कर