class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दानापुर रलमंडल के पटना-गया रलखंड के बीच स्थित तारगना स्टेशन पर इांीनियरिंग के परीक्षार्थियों व दैनिक यात्रियों के बीच ट्रेन में सीट को लेकर तीखी झड़प हुई। इस दौरान दोनों ओर से जमकर रोड़ेबाजी हुई जिसमें दर्जनभर से अधिक लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। पटना-हटिया एक्सप्रेस (8623) में हुई इस घटना के बाद ट्रेन में बैठे यात्रियों के बीच कोहराम मच गया। आधे घंटे तक हुए पथराव से कई खिड़कियों के शीशे टूट गए। रांची तथा बोकारो जा रहे इांीनियरिंग के परीक्षार्थी पूरी ट्रेन में कब्जा जमाए बैठे थे। जब स्थानीय दैनिक यात्री बोगियों में सवार होने लगे तो उन्हें रोका मोर्चा संभाला व आधे घंटे के बाद ट्रेन को रात 11 बजे यहां से रवाना किया गया।ड्ढr ड्ढr इससे पूर्व 23संपूर्णक्रांति व 8623 पटना-हटिया एक्सप्रेस के स्लीपर बोगियों पर इांीनियरिंग के परीक्षार्थियों ने राजेंद्रनगर में ही कब्जा जमा लिया था। इधर पटना जंक्शन पर सैकड़ों यात्री ट्रेन का इंतजार कर रहे थे। खचाखच भरी ट्रेन पटना पहुंची तो यात्री हदप्रभ रह गए। कइयों ने ट्रेन में सवार होने की हिम्मत नहीं की और यात्रा रद्द कर दी। आरक्षण कराये यात्रियों को भी मुश्किल से बैठने की जगह मिली। कई यात्री तो बोगी की फर्स पर बैठे। इसको लेकर यात्रियों ने जंक्शन पर हंगामा भी किया। यात्रियों व परीक्षार्थियों के बीच नोकझोंक भी हुई। मौके पर जीआरपी व आरपीएफ के जवान पहुंचे, पर बोगी से छात्रों को बाहर निकालने की हिम्मत नहीं जुटा सके। परीक्षार्थी बोगियों पर पोस्टर चिपका दिए थे, जिसमें लिखा था इट्स वनली फॉर इंनीनियरिंग स्टूडेंट्स, अदर परसन नॉट अलाउड। छात्र 27 अप्रैल को दिल्ली, रांची व बोकारो में सीबीएसई इांीनियरिंग की परीक्षा में शामिल होने जा रहे थे। उधर टिकट कैंसिल कराने के लिए भी यात्रियों की लंबी कतार लग गई थी। दूसरी ओर गणित की परीक्षा रद्द करने के खिलाफ शुक्रवार को छात्रों ने बड़हिया स्टेशन पर रेल चक्का जाम कर दिया। इससे अप-डाउन की दर्जनों गाड़ियां विभिन्न स्टेशनों पर घंटों फंसी रहीं। छात्रों ने बड़हिया स्टेशन प्रबंधक व बुकिंग क्लर्क को भी बंधक बनाया, जिन्हें थोड़ी देर बाद छोड़ दिया गया। उग्र छात्रों ने एसडीओ व डीएसपी के वाहनों पर पथराव कर क्षतिग्रस्त कर दिया। पुलिस ने लाठीचार्ज किया, जिसमें कई छात्र घायल हो गए। छात्रों ने एनएच-80 को भी तीन घंटे तक जाम रखा। पुलिस के प्रयास के बाद अपराह्न् दो बजे रल सेवा बहाल हुई। दानापुर के पीआरओ आरके सिंह के अनुसार सुबह 7.20 से डेढ़ बजे तक रल चक्का जाम रखा गया। छात्रों द्वारा 503 सवारी गाड़ी के गार्ड व 3401 दानापुर इंटरसिटी के चालक को भी थोड़ी देर के लिए अगवा कर लिया था। इस बीच छात्रों ने पत्रकारों व छायाकारों को भी अपना निशाना बनाया। इस बीच पटना-हावड़ा जनशताब्दी एक्सप्रेस, दानापुर-टाटा एक्सप्रेस, पाटलिपुत्र, दानापुर इंटरसिटी, साहेबगंज इंटरसिटी, भागलपुर-दादर समेत दर्जनों ट्रेनें विभिन्न स्टेशनों पर फंसी रहीं। लेट आने के कारण वापसी में पटना से 8622 पाटलिपुत्र एक्प्रेस साढ़े छह घंटे लेट रात 10 बजे व 3402 भागलपुर इंटरसिटी छह घंटे लेट रात 10.30 बजे के बाद रवाना हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: