class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ज्ञानोदय कॉलेज से लीक हुआ था बीकॉम का पर्चा

लविवि की बीकॉम तृतीय वर्ष की परीक्षा का पर्चा आईआईएम रोड स्थित ज्ञानोदय डिग्री कालेज से लीक हुआ था। पर्चा लीक करने और हाारों रुपए लेकर छात्रों तक पर्चा पहुँचाने के आरोप में कॉलेज के लैब असिस्टेंट मनीष श्रीवास्तव, अस्थायी प्रवक्ता नवनीत मिश्र और पुरनिया स्थित केके कोचिंग के प्रबन्धक कृष्ण कुमार सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है। पूर मामले में अहम भूमिका निभाने वाले कॉलेज के हेड क्लर्क सूर्यकान्त त्रिपाठी, छात्र अकबर समेत कई अन्य की तलाश की जा रही है। सभी आरोपितों को शिक्षा माफिया में सूचीबद्ध करने और गैंगस्टर की संस्तुति की गई है।ड्ढr एएसपी गोमती पार अशोक प्रसाद ने बताया कि आठ अप्रैल को पर्चा मनीष श्रीवास्तव के माध्यम से हेड क्लर्क सूर्यकान्त त्रिपाठी को दिया गया था। श्री त्रिपाठी ने पैसे लेकर एक बण्डल से 10 प्रश्नपत्र मनीष को दे दिए थे। मनीष ने हाारों रुपए लेकर पर्चों की कई प्रतियाँ जानकीपुरम निवासी नवनीत मिश्र को दी। नवनीत ने आठ हाार रुपए में यह पर्चा जानकीपुरम निवासी कृष्ण कुमार को दिया था। इसके बाद कृष्ण कुमार ने कई छात्रों को पर्चे की प्रतियाँ बेच दी।ड्ढr एएसपी के मुताबिक पर्चा लीक कराने में अकबर नाम के एक छात्र की मुख्य भूमिका रही। इंस्पेक्टर हसनगंज अजीत सिंह चौहान ने बताया कि सर्विलांस की मदद से तीनों की गिरफ्तारी हुई है। एसएसपी ने इस गुडवर्क में शामिल इंस्पेक्टर, एसआई डीके उपाध्याय, लविवि चौकी प्रभारी अनुपम सिंह, आरक्षी घरबरन चौधरी को पुरस्कृत करने को कहा है। एसएसपी अखिल कुमार ने आरोपितों पर गैंगस्टरड्ढr की संस्तुति करने का आदेश दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ज्ञानोदय कॉलेज से लीक हुआ था बीकॉम का पर्चा