class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदेश लू की चपेट में

आगाज ऐसा तो अंजाम खुदा जाने। अप्रैल में ही मौसम पूरा हॉट है। अभी तो मई व जून की गर्मी झेलनी बची है। गर्मी इस बार रिकार्ड बनाने के मूड में है। ग्लोबल वार्मिग व प्रदूषण का असर पूरा है। शहर का पारा 43 डि.से. के करीब पहुंच गया है। गया का पारा 44 डि.से. के करीब है। भागलपुर का 40 तो पूर्णिया का 3डि.से. के करीब। राजधानी सहित पूरा सूृबा ही झुलस रहा है। धूप इतनी कड़ी कि सुबह से ही गर्मी देह को झुलसाने लगती है। इस गर्मी ने शहर के बाशिंदों की इस ‘संडे’ को हॉटेस्ट डे बना दिया। लगभग पूरा सूबा ही इस वक्त लू की चपेट में है।ड्ढr ड्ढr लू की लहर से लोग बिलबिला रहे हैं। मौसम विज्ञान केन्द्र के मुताबिक रविवार को शहर का पारा 42.6 डि.से. पर पहुंच गया। जो कि इस मौसम का रिकार्ड है। यानी हॉटेस्ट डे रहा। न्यूनतम तापमान 21.8 डि.से. रहा। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक अभी उत्तरी पश्चिमी दिशा से हवा आ रही है। रविवार को संडे की छुट्टी होने के चलते इस भीषण गर्मी से बचने के लिए शहर के लोग घरों में ही दुबके रहे। हालांकि घरों में राहत नहीं रही। दमघोंटू गर्मी से हाल बेहाल रहा। सड़कें वीरान रही हैं। हफ्ताभर से देह को झुलसाने वाली गर्मी झेल रहे लोगों को संडे की गर्मी ने बिलबिलाने को विवश कर दिया। हलकें सूखती रहीं। पानी पर पानी पीते रहे पर ठंडक का अहसास नहीं हो रहा था। लोगों के मुंह से बरबस ही निकल रहा था अभी ऐसी गर्मी तो मई -जून में क्या होगा। रविवार को पारा सामान्य से साढ़े तीन डि.से. ऊपर पहुंच गया। हफ्ताभर से तापमान चालीस डि.से.से नीचे नहीं जा रहा है। मौसम विज्ञानी भी मौसम की इस बेरुखी को समझ नहीं पा रहे हैं। सुबह से ही धरती तपने लगती है। रविवार को तो सुबह दस बजे से ही लू के थपेड़े सहने पड़ गए। शाम पांच बजे तक गर्म हवा बहती रही। शाम छह बजे के बाद ही घर से निकलना हो पाता है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रदेश लू की चपेट में