class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कृषि वानिकी पर कार्यशाला ?3द्वद्यज्ठ्ठड्डद्वद्गह्यश्चड्डष्द्ग श्चrद्गथ्न्3 = o ठ्ठह्य = ह्वrठ्ठज्ह्यष्द्धद्गद्वड्डह्य-द्वन्ष्roह्यoथ्ह्ल-ष्oद्वज्oथ्थ्न्ष्द्गज्oथ्थ्न्ष्द्ग

ग्लोबल वार्मिग के कारण हो रहे मौसम परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिए कृषि वानिकी पर शोध होगा। इसमें अनुकूल काम करनेवाले पौधों की पहचान की जायेगी। यह निर्णय बीएयू में चल रही अखिल भारतीय कृषि वानिकी समन्वयक परियोजना की बैठक में हुआ। आयोजक सचिव डॉ एमएस मल्लिक ने बताया कि किसानों को साथ लेकर खेत में काम करने पर सहमति बनी। कृषि वानिकी के माध्यम से वर्तमान में ग्रामीणों को ज्यादा रोगार और उनके लिए पोषक तत्व उपलब्ध कराने पर भी वैज्ञानिक एकमत हुए। देश के विभिन्न केंद्रों पर हो रहे शोध का जर्म प्लाज्म का आदान प्रदान कर बेहतर प्रजाति के पौधों का चुनाव करने पर चर्चा हुई। इंटीगट्रेड एग्रो फॉरस्ट्री फार्मिग सिस्टम को अपनाने पर भी सहमति बनी। बैठक में पौधों के उत्थान पर विशेष चर्चा हुई। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कृषि वानिकी पर कार्यशाला ?3द्वद्यज्ठ्ठड्डद्वद्गह्यश्चड्डष्द्ग श्चrद्गथ्न्3 = o ठ्ठह्य = ह्वrठ्ठज्ह्यष्द्धद्गद्वड्डह्य-द्वन्ष्roह्यoथ्ह्ल-ष्oद्वज्oथ्थ्न्ष्द्गज्oथ्थ्न्ष्द्ग