class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वोट डालते आठ फर्जी प्रोफेसर गिरफ्तार

यार और युद्ध में छल, प्रपंच, झूठ, सच सब जायज माना जाता है। चाहे यह जंग आपसी हो या चुनावी। पर इसी चुनावी जंग में छल और प्रपंच कभी किसी पर भारी पड़ जाता है। सोमवार को इसका उदाहरण दिखा शास्त्रीनगर थाना क्षेत्र के डीएवी स्कूल (विद्युत कॉलोनी) में बनाए गए शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के मतदान केन्द्र पर पांच विभिन्न कालेजों के फर्जी प्रोफेसर मतदान करने पहुंचे।ड्ढr ड्ढr शक होने पर पुलिस ने उनके मतदाता परिचय पत्र की छानबीन की। छानबीन के क्रम में इन फर्जी प्रोफेसरों का नाम और पिता का नाम तथा स्थायी पता तो ठीक पाया गया पर जब प्रोफेसर नहीं होने के शक पर पुलिस ने उनके विषय से संबंधित कुछ सवाल पूछे तो सभी बगले झांकने लगे। पुलिस ने इन आठों प्रोफेसर को गिरफ्तार कर लिया। जब इनसे सघन पूछताछ की गई तो इन लोगों ने स्वीकार किया कि निवर्तमान एमएलसी और पटना शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के प्रत्याशी नवल किशोर यादव ने इन्हें फर्जी प्रोफेसर के रूप में मतदाता बनाया था। मौके पर मौजूद निर्वाचन आयोग के एक पर्यवेक्षक जिनके निर्देश पर इन प्रोफेसरों की जांच की गई, के आदेश पर इन सभी फर्जी प्रोफेसरों को तत्काल गिरफ्तार कर लिया गया तथा शास्त्रीनगर थाना में इनके साथ-साथ प्रत्याशी नवल किशोर यादव पर भी फर्जीवाड़ा और चुनाव आयोग की नियमावली के उल्लंघन का मुकदमा (13808) दर्ज कराया गया। सूत्रों के अनुसार अगर सोमवार को संपन्न हुए चुनाव में राजद प्रत्याशी नवल किशोर यादव जीत भी जाते है तो फर्जी मतदाताओं के उपयोग के आरोप में उन्हें विधान पार्षद का पद गंवाना भी पड़ सकता है। चुनाव आयोग सूत्रों के अनुसार इस संदर्भ में देर रात तक कानूनी कार्रवाई कर भारत निर्वाचन आयोग को सूचना भेजी जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वोट डालते आठ फर्जी प्रोफेसर गिरफ्तार