class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिल गए गिल

सरकार, सत्तारू ढ़ सांसदों और अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ के दबाव के चलते के. पी. एस. गिल को हटा दिया गया। भारतीय ओलम्पिक संघ (आईओए) ने गिल को हटाने के चक्कर में भारतीय हॉकी संघ (आईएचएफ) की कार्यकारिणी को भंग कर दिया। आईएचएफ के सचिव ज्योति कुमारन की करतूत गिल के गले की फांस बन गई। आईओए ने भी यह कड़ा कदम तब उठाया, जब जनाक्रोश की आंच उस पर आने लगी थी। गिल के जाने मात्र से भारतीय हॉकी के दिन बहुर जाएंगे, कहना कठिन है। हमारा राष्ट्रीय खेल आज मैदान से ही नहीं, जनता के दिलो-दिमाग से भी सिमट रहा है। अकेले गिल को इसके लिए दोष देना अन्याय होगा। चौदह बरस पहले ‘सुपर कॉप’ ने जब इसकी कमान संभाली थी, तब हॉकी का स्वर्णिम युग नहीं था। उनके जाने के बाद भी अचानक कोई चमत्कार नहीं हो सकता। आईओए के वर्तमान पदाधिकारी बरसों से अपने पदों पर बने हुए हैं और उनके रहते ओलम्पिक, एशियाड या अन्य अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में देश का झंडा बुलंदी पर नहीं पहुंचा है। इसे भारतीय खेलों का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि उन्हें चलाने के लिए जिम्मेदार पदाधिकारियों की कोई जवाबदेही नहीं होती। भारत पहली बार ओलम्पिक हॉकी के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाया, किंतु इस पर विचार करने के लिए आईओए ने अपनी कार्यकारिणी की बैठक बुलाना जरूरी नहीं समझा। स्वायत्तता की आड़ में अधिकांश खेल संघों पर नेता और अफसर बर्षो से कब्जा जमाए हुए हैं। वे सरकार से पैसा तो लेते हैं, लेकिन कुछ पूछने पर आंखें तररते हैं। इस व्यवस्था को बदले बिना खेलों का नक्शा नहीं सुधर सकता। खेल संगठन के लिए आचारसंहिता बनाना और उस पर कड़ाई से अमल किया जाना जरूरी हो गया है। किसी भी संगठन के पदाधिकारियों को दो बार से ज्यादा चुनाव लड़ने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। पदाधिकारियों की जवाबदेही तय करना भी जरूरी है। पैसे या पैरवी के आधार पर खिलाड़ियों के चयन की शिकायत अकेले हॉकी के मैदान में ही नहीं सुनाई पड़ती, यह बीमारी किसी न किसी रूप में सब खेलों में व्याप्त है। चयन प्रक्रिया पारदर्शी बने बिना इस बीमारी से मुक्ति कठिन है। गिल की बर्खास्तगी के तरीके पर सवाल उठाए जा सकते हैं, किंतु सच यह है कि हॉकी के उद्धार के लिए ऐसी कड़वी खुराक जरूरी थी। वर्षो से पदों पर कुंडली मारकर बैठे अन्य खेल पदाधिकारियों से भी सवाल किए जाने चाहिए।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हिल गए गिल