class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महंगाई से दो-दो हाथ ढेरों उत्पादों पर से घटाया शुल्क

महंगाई पर काबू पाने के लिए केंद्र हर संभव कोशिश ंकर रहा है। मंगलवार को वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने लोकसभा में 2008-0े वित्त विधेयक पर बहस का जवाब देते हुए कई उत्पादों पर उत्पाद और सीमा शुल्क में कटौती कर दी। घरलू बाजार में आपूर्ति बढ़ाने के लिए कई उत्पादो के निर्यात को हतोत्साहित करने के कदम भी उठाये गये हैं। इनके चलते स्टील, सीमेंट, दूध, घी, बिजली से चलने वाले वाहन, वाटर फिल्टर और न्यूज प्रिंट के दाम घटेंगे। इसका सीधा फायदा महंगाई की मार झेल रहे आम आदमी को मिलेगा। इन कदमों से सरकार को 1500 करोड़ के राजस्व का नुकसान होगा। संशोधनो के साथ लोस ने आम बजट को पारित कर दिया। उधर वित्तमंत्री के कदमों से असंतुष्ट वाम दलों ने सदन से वाकआउट किया। चिदंबरम ने कहा कि महंगाई के मोचेर्ं पर सरकार कदम उठा रही है। लेकिन स्टील और सीमेंट ऐसे उद्योग हैं, जो महंगाई बढ़ाने के कारक बन रहे हैं। खाद्यान्न के मोर्चे पर स्थिति बेहतर होती जा रही है। सिर्फ मुनाफे के फेर में न रहें उद्योग : प्रधानमंत्रीसरकार के उपाय स्टील उत्पादों के निर्यात पर 5 से 15 फीसदी तक निर्यात शुल्क पाउडर वाले दूध पर सीमा शुल्क 15 से घटाकर 5 फीसदी बटर ऑयल पर सीमा शुल्क 40 से घटाकर 30 फीसदी इलेक््रिटक वाहन उत्पाद शुल्क से पूरी तरह मुक्त न्यूज प्रिंट पर कस्टम ड्यूटी घटी कीमती पत्थरों व बिना तराशे रत्नों के आयात पर बेसिक कस्टम शुल्क खत्म न्यूज प्रिंट पर कस्टम ड्यूटी घटी कीमती पत्थरों व बिना तराशे रत्नों के आयात पर बेसिक कस्टम शुल्क खत्मनहीं बढ़ायीं दरं आरबीआइ की नीतियां ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं आगामी 24 मई से 8.25 फीसदी हो जाएगी सीआरआर सकल घरेलू उत्पाद में 8.5 प्रतिशत तक वृद्धि का अनुमान मुद्रास्फीति की दर 5.5 फीसदी के भीतर रखने का लक्ष्य निजी आवास ऋण की सीमा 30 लाख रुपयेरिार्व बैंक अध्यक्ष वाइवी रड्डी ने घोषित 2008-0ी मौद्रिक नीति में ब्याज में कोई बदलाव नहीं किया है। इसके चलते आवास और पर्सनल लोन की ब्याज दरों पर प्रतिकूल असर पड़ने की आशंका कम है, लेकिन नकद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) में एक चौथाई फीसदी की बढ़ोतरी की है। 24 मई से सीआरआर 8.25 फीसदी हो जायेगी। यह कदम बैंकों की उधार देने की क्षमता में 000 करोड़ रुपये की कमी लायेगा। इसका बैंकों के मुनाफे पर असर पड़ेगा। रिार्व बैंक ने चालू साल के लिए जीडीपी की विकास दर आठ से 8.5 फीसदी पर रहने का अनुमान लगाया गया है। आरबीआइ के अध्यक्ष ने कहा कि महंगाई कम करने के लिए सरकार कदम उठा रही है। बैंक ने भी महंगाई को प्राथमिकता दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: महंगाई से दो-दो हाथ ढेरों उत्पादों पर से घटाया शुल्क