class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पनडुब्बियां छुपाने के लिए चीन ने बनाई पहाड़ी सुरंग!

चीन ने गत वर्ष जनवरी में अंतरिक्ष में अपने एक सैटेलाइट को गिरा कर दुनिया को चौंकाया था। अब फिर उसने अपनी सैनिक महत्वाकांक्षाओं से विश्व भर को हैरत में डाल दिया है। प्रतिष्ठित सैन्य मामलों की पत्रिका जेन्स इंटेलिजेंस रिव्यू ने एक सचित्र रहस्योद्घाटन किया है जिसमें बताया गया है कि दक्षिणी चीन सागर में हैनान द्वीप के पास सान्या में एक एसा चीनी गोपनीय नया नौसैनिक अड्डा तैयार हो गया है जिसमें जिसमें दर्जनों परमाणु पनडुब्बियां, विमानवाही पोत या विध्वसंक पोत रखे जा सकते हैं। यहीं समुद्र के किनार एक पहाड़ी की तलहटी को काट कर एसी सुरंग बनाई गई है जिसमें एक साथ 20 परमाणु पनडुब्बियों को टोही उपग्रहों की नजर से छुपाया जा सकता है। यहां कई जंगी जहाजों को रखने की भी व्यवस्था की गई है। चीन की इस सैन्य पहल को विश्व में शीत युद्ध के एक नए दौर की शुरुआत माना जा रहा है। इससे पड़ोसी देश भारत ही नहीं बल्कि अमेरिका व यूरोपीय देश भी चिंतित हैं। विश्व भर के अखबारों में लगातार छप रही इस नौसैनिक अड्डे की खबरों से हड़कंप सा मचा हुआ है। ‘हिन्दुस्तान’ ने पहले दिसंबर 2004 और फिर जुलाई 2005 में खबरं छाप कर चीनी नौ सेना की ओर से उक्त खतर के प्रति सचेत किया था। तत्कालीन नौसेनाध्यक्ष एडमिरल अरुण प्रकाश ने भी तीन साल पहले चीनी नौसेना की तैयारियों को लेकर जो आशंकाएं व्यक्त की थीं, अब वे सही साबित हो रही हैं। तब एक कार्यक्रम के सिलसिले में कोलकाता जाते हुए एडमिरल प्रकाश ने इस संवाददाता से कहा था कि चीन अंदरखाने अपनी नौसेना को मजबूत कर रहा और एक दिन हिन्द महासागर में वह खतरा बन कर उभर सकता है। यह अड्डा हिन्द महासागर में मलक्का जलडमरुमध्य से मात्र 1200 मील दूर ह

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पनडुब्बियां के लिए चीन ने बनाई पहाड़ी सुरंग!