class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अस्पतालों के औचक निरीक्षण में कई डाक्टर गायब मिले

राजधानी के शहरी अस्पतालों में किए गए श्रंखलाबद्ध औचक निरीक्षण में डॉक्टर और कर्मचारियों के कर्तव्य में लापरवाही की पोल ही खुल गयी। स्वास्थ्य सचिव दीपक कुमार द्वारा शनिवार की रात में किए गए औचक निरीक्षण में कई डॉक्टर और कर्मचारी गायब पाए गए। अनुपस्थित डॉक्टरों और कर्मचारियों के वेतन पर तत्काल रोक लगाते हुए स्पष्टीकरण की मांग की गयी।ड्ढr ड्ढr स्वास्थ्य सचिव दीपक कुमार जब शनिवार की रात 8.20 बजे गर्दनीबाग अस्पताल का औचक निरीक्षण किया तो ड्यूटी पर तैनात चिकित्सा पदाधिकारी डा.सुनील कुमार सिन्हा, एएनएम सुधा सिंह और फार्मासिस्ट महेद्र साह अस्पताल में अनुपस्थिति थे। इसी क्रम में बजे रात्री में न्यू गार्डिनर रोड अस्पताल की जांच की गयी। निरीक्षण के दौरान अस्पताल में कोई एएनएम ड्यूटी पर नहीं थी। इसी कड़ी में विधायक अस्पताल का भी औचक निरीक्षण किया गया। विधायक अस्पताल में बजे के निरीक्षण में ड्यूटी पर तैनात और अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा.अशोक कुमार कारीवाल ही गायब पाए गए। यहां पर कोई एएनएम भी ड्यूटी पर नहीं थी। निरीक्षण में मरीजों के साथ होनेवाले र्दुव्‍यवहार का भी खुलासा हुआ। विधायक अस्पताल में इलाज के लिए पहुंचे रघुवंश प्रसाद नामक परिजन ने बताया कि जब इलाज के लिए अस्पताल पहुंचा तो गेट का ताला बन्द था। 15 मिनट तक गेट खटखटाने के बाद भी गेट नहीं खोला गया। अंतत: वह थककर उसे न्यू गार्डिनर रोड अस्पताल जाना पड़ा। गार्डिनर रोड अस्पताल का फार्मासिस्ट विनय कुमार इसको लेकर क्रोधित हो गया। रात के 10.30 बजे राजवंशी नगर अस्पताल के औचक निरीक्षण में चतुर्थवर्गीय कर्मचारी फुलेश्वर ड्यूटी स्थल से अनुपस्थित पाया गया। औचक निरीक्षण में अनुपस्थि डॉक्टर और कर्मचारियों को तीन दिनों में स्पष्टीकरण देने को कहा गया है। इस बीच गायब कर्मचारियों का वेतन भुगतान अगले आदेश तक के लिए रोक दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अस्पतालों के औचक निरीक्षण में कई डाक्टर गायब मिले