class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लविवि के एक दर्जन से अधिक पाठय़क्रमों पर ब्रेक

लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एएस बरार ने एक दर्जन से अधिक पाठय़क्रमों पर ब्रेक लगा दिया है। अगले सत्र में इन पाठय़क्रमों में कोई भी दाखिला नहीं लिया जाएगा। यह फैसला इन पाठय़क्रमों में कम प्रवेश संख्या और प्लेसमेंट की स्थिति को देखते हुए किया गया है।ड्ढr लविवि में दाखिले 15 मई से शुरू हो रहे हैं। इनके लिए जो प्रॉस्पेक्टस छपने के लिए भेजा गया है, उसमें पत्रकारिता विभाग के अंतर्गत संचालित वीडियो प्रोग्राम प्रोडक्शन, एमएससी के बॉयोस्टैटिस्टिक्स, सेलुलर मॉलीक्यूलर बॉयोलॉजी, अंग्रेजी विभाग के प्रोफिशिएंशी इन जपनीज, डिप्लोमा इन फारन अफेयर कोर्स शामिल हैं। जो अन्य कोर्स हटाए जा रहे हैं, उनमें एमएससी नैनो टेक्नोलॉजी व मैटेरियल साइंस भी हैं। ये दोनों पाठय़क्रम शुरू से ही विवाद में रहे हैं। पूर्व कुलपति प्रो. आर पी सिंह ने इन्हें व्यक्ितगत रुचि लेकर शुरू कराया था लेकिन विभाग के ही कुछ शिक्षक इन पाठय़क्रमों के प्रति छात्रों की रुचि और शिक्षकों की उपलब्धता को लेकर आशंकित थे। हुआ भी यही, पिछले सत्र में इन स्ववित्तपोषित पाठय़क्रमों में इक्का-दुक्का छात्रों ने ही प्रवेश लिया। बाद में इन छात्रों की या तो फीस वापस कर दी गई या उन्हें अन्य विषयों में स्थानांतरण का विकल्प दिया गया।ड्ढr लविवि प्रवक्ता डॉ. मनोज दीक्षित का कहना है कि कोई पाठय़क्रम समाप्त नहीं किया जा रहा है। सिद्धांत रूप से तय किया गया है कि जिन पाठय़क्रमों में छात्रों की संख्या निर्धारित सीटों की तुलना में 25 फीसदी से कम है, उन्हें फिलहाल स्थगित रखा जाएगा। इस सत्र में कोई भी नया कोर्स शुरू नहीं किया जा रहा। केवल वही कोर्स चलेंगे जिनमें पर्याप्त संख्या में छात्र हों और उनका प्लेसमेंट संभव हो। जो कोर्स स्थगित किए जा रहे हैं उनमें से कई में छात्र संख्या शून्य थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लविवि के एक दर्जन से अधिक पाठय़क्रमों पर ब्रेक