class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेंसेक्स को 344 अंक का झटका

च्चे तेल के रिकॉर्ड भाव मंहगाई के बढ़ने और अमेरिका के बीमा कंपनी के भारी घाटे की खबरों के बीच देश के शेयर बाजार शुक्रवार को लगातार पांचवें दिन ढहे। बम्बई शेयर बाजार (बीएसई) का सेंसेक्स 344 अंक और नेशनल स्टाक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी अंक लुढ़क गए। सत्र की शुरुआत से ही बाजार में बिकवाली का दबाव था, किंतु दोपहर से पहले के सत्र में छिटपुट लिवाली से तेजी की उम्मीद बंधी थी। बाद में एक-एक करके आई नकारात्मक खबरों से बाजार बिकवाली की गिरफ्त में रहा। अमेरीका की बीमा कंपनी एआईजी को ऋण संबंधी निवेश के चलते तिमाही के दौरान सात अरब 80 करोड़ डालर का घाटा हुआ है। इसके साथ ही सिटीग्रूप के निवेशकों के साथ बैठक में 400 अरब डालर की नान कोर पंरिसंपत्तियों की बिक्री की घोषणा किए जाने की संभावनाआें से स्थिति और खराब हो गई। उधर कच्चे तेल की कीमतें 124.36 डालर प्रति बैरल के नए शिखर पर पहुंची तो देश में मंहगाई की दर पिछले 42 माह के उच्चतम स्तर 7.61 प्रतिशत पर। इन सब खबरों ने शेयर बाजारों को हिला दिया। सेंसेक्स गुरुवार के 17080.65 अंक की तुलना में 17020.7अंक पर खुला और इसमें तीव्र उठापटक देखी गई। ऊंचे में 17125.अंक तक चढ़ने के बाद यह 16678.अंक तक गिरा और समाप्ति परइसकी तुलना में कुछ सुधरने के बावजूद कुल 343.58 अंक अर्थात 2.01 प्रतिशत के नुकसान से 14 दिन बाद फिर 17000 अंक से नीचे 16737.07 अंक पर बंद हुआ। बीएसई के मझौली और लघु कंपनियों को भी तगड़ा झटका लगा। इनके सूचकांक क्रमश 160.77 तथा 183.40 अंक गिरे। एफएमसीजी को छोड़कर बीएसई के किसी भी वर्ग का सूचकांक बिकवाली के दबाव से नहीं बच पाया। ऑयल ऐंड गैस सूचकांक को 547.57 अंक का झटका लगा। रियलटी और बैंकेक्स सूचकांक क्रमश 230 तथ्ां 243.83 अंक लुढ़के। कैपीटल गुड्स सूचकांक 265.83 अंक नीचे आया। धातु को 232.58 अंक का झटका लगा। एनएसई का निफ्टी 5070.85 अंक पर नीचा खुलने के बाद ऊंचे में 5087.65 अंक तथा नीचे में 40 अंक तक गिरने के बाद कुल 0 अंक अर्थात 1.प्रतिशत नुकसान से 40 अंक रह गया। एशियाई बाजारों में जापान का निक्केई नीचा रहा। यूरोप के शेयर बाजार भी ढीले थे। बीएसई में सत्र के दौरान कुल 2784 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ और इसमें से 2017 अर्थात 72.45 प्रतिशत कंपनियों के शेयर नीचे बंद हुए। सात सौ छह अर्थात 25.36 प्रतिशत कंपनियों के शेयर ऊपर और मात्र 61 के स्थिर थे। सेंसेक्स की तीस कंपनियों में छह फायदे और 24 नुकसान में थीं। सेंसेक्स की नुकसान वाली पहली बीस कंपनियों में जयप्रकाश एसोसिएट्स के शेयर को सर्वाधिक 6.60 प्रतिशत का झटका लगा। इसका शेयर पौने अट्ठारह रुपए गिरकर 251.30 रुपए रह गया। सेंसेक्स में सर्वाधिक भारांक रखने वाला रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर में 2527.65 रुपए पर 5.1प्रतिशत अर्थात 138.50 रुपए की चपत लगी। रिलायंस एनर्जी, एसीसी लिमिटेड, एचडीएफसी बैंक, हिंडाल्को, एसबीआई, सिप्ला लिमिटेड, एचडीएफसी, टीसीएस लिमिटेड, डीएलएफ, भेल, आईसीआईसीआई बैंक, एल ऐंड टी, अम्बूजा सीमेंट, इन्फोसिस टेकनोलोजीस, महिन्द्रा ऐंड महिन्द्रा, रिलायंस कम्युनीकेशंस, मारुति सुजूकी और एनटीपीसी के शेयर सेंसेक्स के घाटे वाले पहले 20 शेयरों में शामिल थे। फायदे वाले शेयरों में भारती एयरटेल को सर्वाधिक 1.76 प्रतिशत अर्थात 14.60 रुपए का लाभ हुआ। कंपनी का शेयर 842.20 रुपए पर बंद हुआ। आईटीसी लिमिटेड के शेयर में 218.30 रुपए पर 1.51 प्रतिशत अथवा सवा तीन रुपए बढ़े। विप्रो लिमिटेड, सत्यम कंप्यूटर, ग्रासिम इंडस्ट्रीज और आेएनजीसी के शेयर भी फायदे में रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सेंसेक्स को 344 अंक का झटका