class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राहत कार्यो में तेजी के लिए तहसील में कंट्रोल रूमं

मुख्य सचिव प्रशान्त कुमार मिश्र ने सूखाग्रस्त क्षेत्रों में राहत कार्यो में और तेजी लाने के लिए तहसील स्तर पर कन्ट्रोल रूम स्थापित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल की पर्याप्त व्यवस्था करने के लिए सभी 2773 नलकूपों के पास प्लेटफार्म बनाकर एक हजार लीटर की सिंटेक्स टंकी स्थापित कराने के निर्देश दिए हैं। यह भी कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में कम से कम एक टैंकर रिजर्व में रखा जाए ताकि जरूरत पड़ने पर एक घंटे के भीतर उस स्थल पर पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित कीड्ढr जा सके।ड्ढr मुख्य सचिव रविवार को शास्त्री भवन स्थित अपने सभाकक्ष में सूखाग्रस्त क्षेत्रों में चलाए जा रहे राहत कार्यो की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों में जलाशयों के सुदृढ़ीकरण तथा जीर्णोद्धार के लिए श्री कांशीराम जी शहरी समग्र विकास योजना के अंतर्गत 500 करोड़ रुपए की धनराशि आवंटित की गई है। इसी तरह ग्रामीण क्षेत्रों के लिए आदर्श जलाशय योजना के अंतर्गत 25 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं।ड्ढr मुख्य सचिव ने कहा कि सिंचाई विभाग उन सभी जलाशयों और झीलों को चयनित कर ले जिन्हें मानसून आने से पहले गहरा किया जाना है। उन्होंने अधिकाधिक हैण्डपम्प लगाए जाने तथा नलकूपों को रिबोर किए जाने के निर्देश दिए। बैठक में प्रमुख सचिव नगर विकास एस.आर. लाखा ने बताया कि सूखाग्रस्त जिलों में टैंकरों के जरिए पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित कराई जा रही है।ड्ढr महोबा जिले के अजरुन बाँध (चरखारी) क्षेत्र सहित अन्य स्थानों पर डीप बोरिंग सफल रही है जिससे पेयजल की पर्याप्त उपलब्धता बनी हुई है। पाइप लाइनों के अलावा भी 211 नए टैंकरों से पानी की सप्लाई की जा रही है। बैठक में कृषि उत्पादन आयुक्त आर.के. मित्तल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री वी.एन. गर्ग और नेतराम, प्रमुख सचिव वित्त वी.के.शर्मा, प्रमुख सचिव कृषि रोहित नन्दन, प्रमुख सचिव राजस्व बलन्दिर कुमार प्रमुख सचिवड्ढr ग्राम्य विकास जे.एन. चैम्बर, राहत आयुक्त जी.के. टण्डन आदि वरिष्ठ अधिकारी मौजूदड्ढr थे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राहत कार्यो में तेजी के लिए तहसील में कंट्रोल रूमं