class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों पर भी महंगाईकी मार

महंगाई की मार ने आम लोगों के बजट को तो गड़बड़ कर ही दिया है। अब महंगाई ने छात्रों पर भी अपना प्रभाव दिखाना शुरू कर दिया है। सूबे के छात्रों की पहली पसंद पटना विवि है और विवि प्रशासन ने इसका पूरा फायदा उठाने का निर्णय लिया है। बढ़ती महंगाई का हवाला देकर विवि प्रशासन द्वारा नामांकन फार्म की कीमत में तो क्षाफा कर ही दिया। साथ ही नामांकन फार्म के साथ संलग्न रहने वाले प्रोस्पैक्टस को भी अलग कर दिया गया है। अब इस प्रोस्पैक्टस की अलग से कीमत वसूली जाएगी। इस तरह से छात्रों को अगर एक से अधिक कॉलेजों में नामांकन फार्म भरने के लिए सोचना पड़ेगा।ड्ढr ड्ढr विश्वविद्यालय प्रशासन ने पहले ही सामान्य कोटि के छात्रों के लिए नामांकन फार्म की कीमत में 40 रुपये का क्षाफा कर दिया है। वहीं आरक्षण कोटि वाले छात्रों को इस बार फार्म खरीदने के लिए 20 रुपये अतिरिक्त खर्च करने होंगे। इस तरह सामान्य कोटि के छात्रों को स्नातक व स्नातकोतर में नामांकन के लिए फार्म खरीदने के लिए 100 के बजाए 140 रुपये और आरक्षण कोटि के छात्रों को 30 के बजाए 50 रुपये खर्च करने पड़ेंगे। इसके अलावा इस बार छात्रों को प्रोस्पैक्टस की कीमत अलग से चुकानी होगी। विवि सूत्रों की मानें तो प्रशासन ने इस बार प्रोस्पैक्टस में काफी फेरबदल किया गया है। इसमें विभिन्न कोर्सो की जानकारी, संबंधित कॉलेजों व विभागों के संबंध में जानकारी रहेगी। इसके अलावा कॉलेजों के विशिष्ट फैकल्टी के संबंध में जानकारी रहेगी। विवि प्रशासन का कहना है कि प्रोस्पैक्टस से छात्रों को बेहतर गाइडेंस मिल जाएगा कि वे किन कोर्सो में कहां पर नामांकन लेकर बेहतर पढ़ाई कर सकते हैं। इस कारण इसकी भी कीमत वसूली जाएगी। सूत्रों के अनुसार प्रोस्पैक्टस की कीमत लगभग 30 रुपये रखी गयी है और इसे सभी श्रेणी के छात्रों को उसी कीमत में बेची जाएगी। इस तरह से एक नामांकन फार्म खरीदने के लिए सामान्य छात्रों को 70 रुपये और आरक्षित श्रेणी के छात्रों को 50 रुपये अतिरिक्त खर्च करने पड़ेंगे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: छात्रों पर भी महंगाईकी मार