class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विरमित करने का निर्देश

पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) के लिए चुने गये 66 दारोगा और 12 इंस्पेक्टर को दो दिनों के अंदर विरमित करने का आदेश दिया गया है। सोमवार को पुलिस मुख्यालय से सभी जिलों के एसपी को इस बाबत एक पत्र भेजा गया। झारखंड में एसटीएफ बनाने की शुरुआत डीजीपी वीडी राम ने की है। वे चाहते हैं कि हर हाल में एसटीएफ काम करने लगे। इसके लिए चुनिंदा युवा पुलिस अधिकारियों का चयन किया गया है। एसटीएफ के लिए चुने गये सभी दारोगा और इंस्पेक्टर विरमित होने के एक सप्ताह के अंदर पुलिस मुख्यालय में योगदान देंगे। पुलिस मुख्यालय में एसटीएफ का आइजी डीके पांडेय को बनाया गया है। एसटीएफ के लिए 12 डीएसपी स्तर के पुलिस अधिकारियों का भी चयन हुआ है, उन्हें भी जल्द योगदान देने का निर्देश दिया जायेगा। इस बीच कुछ पुलिस अधिकारियों ने अपने को बीमार बताते हुए एसटीएफ की सूची से नाम हटाने का अनुरोध किया था। इस पर पुलिस मुख्यालय ने फैसला लिया है कि जो पुलिस अधिकारी बीमार हैं, उन्हें मेडिकल बोर्ड से गुजरना होगा।जो पुलिस अधिकारी निर्धारित उम्र सीमा से अधिक के हैं, उन्हें इस सूची से हटा दिया गया है। इसके अलावा विशेष शाखा के तीन इंस्पेक्टर का नाम भी सूची से हटा दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: विरमित करने का निर्देश