class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लिंग जांच कानून फुस्स

देश में लड़कों के अनुपात में लड़कियों की घटती संख्या देख प्रधानमंत्री चिंतित हैं। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्रालय से पीएनडीटी एक्ट को सख्ती से लागू करने तथा कन्या जन्म को संरक्षण देने के लिए प्रभावी कदम उठाने को कहा है। प्रधानमंत्री ने पंजाब, दिल्ली, चंडीगढ़ जसे संपन्न राज्यों में हो रही कन्या भ्रूण हत्याओं को गंभीरता से लिया है। पंजाब के कई इलाकों में लड़कों की तुलना में सिर्फ 700 लड़कियां ही हैं। दिल्ली के कई इलाकों के बार में कहा जाता है कि वहां कन्या पूजन के लिए लड़कियां नहीं मिलतीं। स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार लिंग टेिस्टग किट पीएनडीटी एक्ट को लागू करने के प्रयासों पर पानी फेर रहा है। पंजाब के पॉश बाजारों में खुलेआम अमेरिका और कनाडा से आयातित लिंग टेस्िंटग किट 15 हाार से लेकर 20 हाार रुपये तक में मिल रहे हैं। कई जेनेटिक सेंटर अपने क्लाइंटों को ऐसे किटस ऑन लाइन खरीद-बेच रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कस्टम विभाग से अनुरोध किया है कि वह देश में आ रहे इन लिंग टेिस्टग किट को पकड़ने की संभावना पर विचार कर। कस्टम विभाग से कहा गया है कि वह इस प्रकार के लिंग टेिस्टग किट को आयात करनेवालों के बार में मंत्रालय को सूचना दे ताकि पीएनडीटी एक्ट के अंतर्गत उनके खिलाफ कार्रवाई की जा सके। हाल ही में नोएडा तथा नई दिल्ली में एक महिला डाक्टर के क्लीनिकों में बीबीसी द्वारा किए गए िस्टग आपरशन से पता चला कि वहां इंग्लैन्ड के एक प्रवासी भारतीय की पत्नी के गर्भ में पल रहे बच्चे का गैर कानूनी रूप से लिंग निधारण किया जा रहा था। स्वास्थ्य मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश और दिल्ली के संबंद्ध अधिकारियों से अनुरोध किया कि वे इस मामले की जांच कर अपनी रिपोर्ट दें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: लिंग जांच कानून फुस्स