class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अधिकारी ईमानदारी से काम करं : जस्टिस विनायगम

हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस एम करपग विनायगम 16 मई को रिटायर होंगे। इससे पूर्व 13 मई को ज्यूडिशियल ऑफिसर्स एसोसिएशन द्वारा सिविल कोर्ट परिसर में विदाई समारोह का आयोजन किया गया। इसमें चीफ जस्टिस विनायगम ने न्यायिक अधिकारियों से ईमानदारी पूर्वक काम करने की बात कही। उन्होंने कहा कि ईमानदारी के रास्ते में कई बाधाएं हैं, पर इनसे विचलित नहीं होना चाहिए। न्यायिक अधिकारी अपने पद की गरिमा बनाये रखें। संविधान और कानून की रक्षा की महती जिम्मेवारी उनके कंधों पर है। झारखंड के अनुभव की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इस नवोदित राज्य में काम करके काफी अच्छा लगा। अधिकारियों का भरपूर सहयोग उन्हें मिला। जमशेदपुर के रिटायर्ड जिला जज आरपी रवि और रािस्ट्रार रविनाथ वर्मा के इलाज के लिए उन्होंने सरकार से मदद दिलायी। इससे पूर्व एसोसिएशन के अध्यक्ष जस्टिस विक्रमादित्य प्रसाद ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने कहा कि चीफ जस्टिस विनायगम के कार्यकाल में राज्य में ज्यूडिशियल एक्िटविटी काफी बढ़ी। डालटनगंज के जिला जज जीके वर्मा ने धन्यवाद ज्ञापन किया। विदाई समारोह में राज्य के अधिकांश जिलों के न्यायिक पदाधिकारी, हाइकोर्ट के तमाम जस्टिस सहित अन्य उपस्थित थे। इन्होंने कहा कि चीफ जस्टिस विनायगम के कार्यकाल में न्यायिक अधिकारियों का मान-सम्मान बढ़ा। न्याय और आम जनता के हितों की रक्षा के लिए उन्होंने कई महत्वपूर्ण आदेश पारित किये। उनके साथ काम करना सुखद रहा। ई-लाइब्रेरी का उद्घाटन झारखंड हाइकोर्ट एडवोकेट एसोसिएशन की ई लाइब्रेरी का उद्घाटन मंगलवार को हुआ। कोर्ट परिसर में चीफ जस्टिस एम कर्पग विनायगम ने उद्घाटन किया। इस अवसर पर जस्टिस विनायगम ने कहा कि वकीलों को अध्ययन करना चाहिए। इसके लिए लाइब्रेरी को समृद्ध करना होगा। इस लाइब्रेरी में इंटरनेट की सुविधा है। कई महंगी किताबें, जो सभी को उपलब्ध नहीं है, पुस्तकालय में मिल जायेंगी। स्वागत एसोसिएशन के अध्यक्ष महेश तिवारी ने किया। अवसर पर हाइकोर्ट के सभी जज और वकील उपस्थित थे। लाइसेंस वितरण आज झारखंड राज्य बार कौंसिल 14 मई को सौ नये वकीलों को लाइसेंस देगा। लाइसेंस वितरण के लिए एचइसी में स्थित कौंसिल के कार्यालय में शाम चार बजे समारोह का आयोजन किया गया है। हमले की निंदा इंडियन एडवोकेट्स फ्रंट ने महिला वकील उषा सिंह पर जानलेवा हमले की निंदा की है। फ्रंट के अध्यक्ष कफिलुर रहमान ने अपराधियों के तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है। नैतिकता बगैर समाज आगे नहीं बढ़ सकताहिन्दुस्तान ब्यूरो रांची झारखंड हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस एम करपग विनायगम ने कहा कि नैतिकता के बगैर कोई समाज आगे नहीं बढ़ सकता है। उन्होंने नैतिकता की तुलना खाद से करते हुए कहा कि कानून पेड़ के जड़ के समान है और न्याय फल है। चीफ जस्टिस ने कहा कि दूसरों की खामियां उाागर करना बंद करना होगा। समाज में एक-दूसर प्रति लगाव उत्पन्न करने का प्रयास करना चाहिए। वह द्वितीय केएन प्रसाद मेमोरियल व्याख्यानमाला में बतौर मुख्य वक्ता बोल रहे थे। नैतिकता और कानून विषयक व्याख्यानमाला में जस्टिस डीाीआर पटनायक, महाधिवक्ता एसबी गाड़ोदिया, वकील ऋतु कुमार ने भी अपने विचार रखे। जस्टिस पटनायक ने कहा कि कानून और नैतिकता एक-दूसर के पूरक हैं। पीएनबी ऑफिसर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सीनियर मैनेजर संजय कुमार प्रसाद ने विषय प्रवेश कराया। अंत में वकील सोहैल अनवर ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अधिकारी ईमानदारी से काम करं : जस्टिस विनायगम