class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विद्रोहियों के निशाने पर ओलंपिक

चीन के उत्तर-पश्चिम इलाके के एक मुस्लिम अलगाववादी गुट ने पिछले दिनों शंघाई में बस में बस में विस्फोट के साथ देश भर में कई विस्फोटों की जिम्मेदारी ली है। गुट ने चेतावनी दी है कि ओलंपिक खेलों के दौरान और हमले किए जाएंगे। हालांकि प्रशासन ने इस गुट के दावे को खारिा कर दिया है कि हाल के हमलों के पीछे उसका हाथ रहा है। चीन के उग्रवाद प्रभावित झिंगझियांग प्रांत के यिघुर समूह -तुर्कीस्तान इस्लामिक पार्टी- ने एक वीडियो बयान में दावा किया है कि शंघाई में गत 5 मई को उसी ने विस्फोट किया था, जिसमें 3 लोग मार गए थे और वेनझाऊ में भी उसी ने 17 जुलाई को विस्फोटक लदे ट्रैक्टर से पुलिस पर हमला किया। इस गुट ने 17 जुलाई को गुआंगझाऊ में एक प्लास्टिक फैक्ट्री में विस्फोट और यून्नान प्रांत में 21 जुलाई को दो बसों में विस्फोट की जिम्मेदारी लेने का भी दावा किया है। इस वीडियो बयान का अनुवाद वाशिंगटन स्थित इंटेल सेंटर ने किया है। गुट ने यह भी चेतावपी दी है कि बीजिंग ओलंपिक के दौरान देश में और हमले किए जाएंगे।ड्ढr हालांकि शंघाई पुलिस ने कहा है कि 5 मई को शंघाई में हुआ विस्फोट ‘आतंकी हमला’ नहीं था। शंघाई बीजिंग ओलंपिक का सह आयोजक शहर है। शंघाई निगम सार्वजनिक सुरक्षा ब्यूरो के एक उच्च अधिकारी चेंग जिउलांग ने कहा कि जांच में यह पाया गया है कि यह विस्फोट तेल जसे ज्वलनशील पदार्थ में आग लगने के कारण हुआ था। सरकारी शिन्हुआ समाचार एजेंसी के अनुसार, उन्होंने कहा, ‘विस्फोट जान-बूझकर किया गया था लेकिन इसमें आतंकी हाथ नहीं था।’ अधिकारी ने मामले की ताजा प्रगति के बार में कुछ नहीं बताया।ड्ढr इस बीच, यून्नान प्रांत के कुनमिंग शहर में हुए विस्फोटों के पांच दिन बाद भी पुलिस इसके तार खोजने में लगी है। दो बसों में हुए विस्फोटों में दो लोगों की मौत हो गई थी और 14 अन्य घायल हो गए थे। स्थानीय सुरक्षा प्रशासन ने इस बार में सुराग देनेवालों को लगभग 43,500 अमेरिकी डॉलर ईनाम देने की घोषणा कर रखी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: विद्रोहियों के निशाने पर ओलंपिक