class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नहीं रहे कॉमरड सुरचाीत

माकपा के पूर्व महासचिव कॉमरड हरकिशन सुराीत का शुक्रवार को यहाँ लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। सांस में तकलीफ समेत कई तरह के विकार व वृद्धावस्था रोगों से ग्रस्त सुराीत को पिछले सप्ताह मेट्रो अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वह वेंटिलेटर पर थे। दोपहर 1.35 बो उन्हें हार्ट अटैक पड़ा और उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। निधन की खबर मिलते ही दिल्ली में माकपा मुख्यालय समेत देश भर में पार्टी का झंडा झुका दिया गया।ड्ढr राष्ट्रपति प्रतिभा पाटील ने उनके निधन पर गहरा शोकोताते हुए उन्हें देश का वरिष्ठतम राानेता बताया। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि उनका निधन माकपा के लिए नहीं पूर देश की अपार क्षति है। वर्षीय सुराीत का पार्थिव शरीर एम्स के शवदाह गृह में रखा गया है। उनका अंतिम संस्कार रविवार शाम को दिल्ली में लोधी रोड स्थित इलेक््रिटक शवदाह गृह में कियाोाएगा। इससे पूर्व उनका शव रविवार सुबह 6 बो उनके दिल्ली आवास व 10 बो से दोपहर 2.30 तक माकपा मुख्यालय ए.के.ाी भवन मेंोनता के दर्शनार्थ रखाोाएगा। सुराीत के दो पुत्र व एक पुत्री हैं। उनका एक बेटा पांाब में पार्टी का काम देखता है और दूसरा बेटा लंदन में व्यवसाय करता है। वयोवृद्ध माकपा नेता योति बसु ने कहा कि उनकाोाना राष्ट्रीय क्षति है।ड्ढr माकपा महासचिव प्रकाश करात ने सुराीत के निधन को पार्टी व कम्युनिस्ट आंदोलन के लिए अपार क्षति बताते हुए कहा, ‘मैंने सुराीत से ही माक्र्सवाद का पाठ सीखा था।’ भाकपा महासचिव एबी वर्धन, फॉरवर्ड ब्लॉक नेता देबव्रत बिस्वास व आरएसपी नेता अबनी राय ने कहा कि भारतीय वामपंथ ने एक सही राह दिखाने वाला राानेता खो दिया। भाापा ने भी कॉमरड के निधन पर शोकोताया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नहीं रहे कॉमरड सुरचाीत