class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संविदा शिक्षिकाओं को भी मिलेगा मातृत्व लाभ

राय सरकार ने डिग्री कालेाों में संविदा काम कर रही महिला प्रवक्ताओं को मातृत्व लाभ देने का फैसला किया है। उच्च शिक्षा मंत्री राकेशधर त्रिपाठी ने कहा है कि संविदा शिक्षकों को 12,000 मानदेय देने पर भी सैद्धान्तिक मांूरी दे दी गई है। श्री त्रिपाठी मंगलवार को यहाँ अपने आवास पर उप्र रााकीय महाविद्यालय शिक्षक संघ के प्रतिनिधिमंडल से मिले। उन्होंने कहा कि राय सरकार शिक्षकों के मान-सम्मान की रक्षा एवं उनकी समस्याओं के निदान के लिए प्रतिबद्ध है।ड्ढr शिक्षा मंत्री ने कहा कि शीघ्र ही स्नातकोत्तर एवं स्नातक प्राचार्यो की डी.पी.सी. कराई जाएगी और संविदा शिक्षकों को 12 हजार प्रतिमाह मानदेय देने पर स्वीकृति दी गई है। उन्होंने कहा कि डिग्री कालेजों में प्रत्येक विषय में दो पद तथा पीजी कॉलेजों में चार पद सृजित करने, प्राध्यापकों को रीडर पदनाम प्रदान करने के लिए वर्ष में दो बार बैठक बुलाने पर विचार किया जा रहा है। शिक्षकों की समस्याओं पर विचार करते समय महिलाओं की समस्याओं पर विशेष ध्यान रखा गया है और उनकी माँग पर प्रत्येक रााकीय डिग्री कॉलेज में महिला उत्पीड़न निवारण सेल का गठन किया गया है। इसके अलावा संविदा महिला प्रवक्ताओं को भी मातृत्व लाभ देने की घोषणाोल्द ही की जाएगी। छात्रों के हित में यदि कक्षाएँ चलाने के लिए सेवानिवृत्त लोगों को रखने की आवश्यकता होगी तो उसकी भी अनुमति मिलेगी। शिक्षक संघ के छह सदस्यों वाले प्रतिनिधिमंडल से उन्होंने कहा कि शिक्षक जब तक योगदान देते रहेंगे सरकार उनकी समस्याओं का निदान करती रहेगी ।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: संविदा शिक्षिकाओं को भी मिलेगा मातृत्व लाभ