class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रंगराजन समिति ने गैस मूल्य निर्धारण का फार्मूला सुझाया

रंगराजन समिति ने गैस मूल्य निर्धारण का फार्मूला सुझाया

रंगराजन समिति ने प्राकृतिक गैस के मूल्य निर्धारण के बारे में संभवत: एक जटिल मूल्य फार्मूला सुझाया है जिससे प्राकृतिक गैस का भाव 8 डालर प्रति इकाई (एमएमबीटीयू) पर पहुंच जाएंगे। यह दर मौजूदा दर की करीब दोगुना है।

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि कि क्या रंगराजन समिति के इस फार्मूले के लागू होने के बाद मौजूदा तेल एवं गैस परियोजनाओं के अनुबंधों में मूल्य निर्धारण व्यवस्था समाप्त हो जाएगी। रंगराजन के नेतृत्ववाली छह सदस्यीय समिति ने अपनी रिपोर्ट प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) को 20 दिसंबर को सौंपी है। समझा जाता है कि समिति ने उत्तरी अमेरिका, यूरोप तथा जापानी बाजारों के अलावा आयातित तरलीकत प्राकृतिक गैस के भारांकित औसत के आधार पर घरेलू गैस का मूल्य तय करने का सुझाव दिया है।

सूत्रों ने बताया कि समिति गैस मूल्य को पांच साल में नियंत्रण मुक्त करने का सुझाव दिया है। बीच की अवधि के लिए उसने विदेशी बाजारों के तुलनात्मक औसत मूल्य के आधार पर दाम तय करने का जटिन फार्मूला सुझाया है।

इस फार्मूले के हिसाब से गैस का दाम 8 डॉलर से कुछ अधिक प्रति एमएमबीटीयू पर पहुंच जाएगा। फिलहाल देश में उत्पादित अधिकांश गैस का दाम 4.2 डॉलर प्रति इकाई है।

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (पीएमईएसी) के चेयरमैन सी रंगराजन की अगुवाई वाली समिति को भविष्य के तेल एवं गैस उत्खनन तथा उत्पाद के अनुबंध का डिजाइन तथा घरेलू स्तर पर उत्पादित गैस के दाम तय करने का फार्मूला सुझाने का काम दिया गया था।

सूत्रों ने कहा कि अभी यह तय नहीं है कि समिति के सुझाव के बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी कंपनियों द्वारा किए गए उत्पादन भागीदारी करार (पीएससी) में तय मूल्य में बदलाव आएगा या नहीं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रंगराजन समिति ने गैस मूल्य निर्धारण का फार्मूला सुझाया