class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किडनी प्रतिरोपण की शुरुआत करने वाले जोसेफ मरे का निधन

किडनी प्रतिरोपण की शुरुआत करने वाले जोसेफ मरे का निधन

विश्व में सफलतापूर्वक पहली किडनी प्रतिरोपित करने वाले और अपने श्रेष्ठ काम के लिए नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले डॉक्टर जोसेफ इ मरे का 93 साल की उम्र में निधन हो गया।

अस्पताल के प्रवक्ता टॉम लेंगफोर्ड ने बताया कि गुरुवार को मरे को उपनगरीय बोस्टन स्थित उनके आवास पर मस्तिष्काघात हुआ और सोमवार को ब्रिघम एवं महिला अस्पताल में उनका निधन हो गया। मरे के एक जैसे दिखने वाले जुड़वां बच्चों में पहली बार किडनी प्रतिरोपण का ऑपरेशन करने के बाद विश्व भर में हजारों लोगों में अंग प्रतिरोपण ऑपरेशन किया गया।

डॉक्टर ई डोन्नल थामस के साथ 1990 में फिजियोलॉजी या चिकित्सा के क्षेत्र में काम करने के लिए मरे को नोबेल पुरस्कार दिया गया था। थामस ने हड्डी मज्जा प्रतिरोपण के क्षेत्र के क्षेत्र में अमूल्य शोध किया था। नोबुल पुरस्कार जीतने के बाद मरे ने न्यूयॉर्क टाइम्स से कहा था कि अब तो किडनी प्रतिरोपण सामान्य काम लगता है, लेकिन पहला ऑपरेशन बेहद कठिन था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किडनी प्रतिरोपण की शुरुआत करने वाले मरे का निधन