class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गये थे मजदूरी को मिल गई मौत

दो जून की रोटी के जुगाड़ में निकले बाढ़ू को मजदूरी तो नहीं मिली बल्कि मिल गई मौत। शादी के कुछ दिन ही बीते थे कि मुन्नी सुहागन से पलभर में अभागन हो गई। पहली दशहरा में नयी साड़ी का इंतजार कर रही नयी नवेली दुल्हन को क्या पता कि बाढ़ू ने अपने लिए ही कफन का इंतजाम कर लिया है। गौरीचक के पास बस दुर्घटना में बाढ़ू के साथ चाचा गाजा बिंद की भी मौत हो गई। एनएमसी में पोस्टमार्टम के लिए पहुंचे लाश के पास परिजन दहाड़ मारकर रो रहे थे। बाप रामदहिन बिंद का रो-रोकर बुरा हाल था।ड्ढr ड्ढr परिजनों ने बताया कि गुरुवार की सुबह ही पटना मजदूरी के लिए निकला था लेकिन काम नहीं मिलने पर हसनपुर मसौढ़ी लौट रहा था कि किस्मत ने ऐसी पलटी मारी की घर पहुंचने से पहले ही मौत के आगोश में समा गया। घटनास्थल पर कोहराम मचा था। घायलों के कराहने की आवाज से अफरातफरी मची थी। घटना की खबर मिलते ही स्थानीय लोग जुट गए और बस के खिड़की को तोड़कर घायलों को बाहर निकाला। घायलों का कहना था कि ओवर लोड के वजह से बस का संतुलन बिगड़ा है। वहीं कुछ लोग चालक के नशे में होने की बात कर रहे थे। मृतक के परिजनों के नहीं पहुंचने पर स्थानीय लोगों ने पुलिस की मदद से शवों को नालंदा मेडिकल कॉलेज भेजा। देर शाम घटना की सूचना मिलने पर पीड़ित के परिजन नालंदा मेडिकल कॉलेज पहुंचे। हालांकि समाचार लिखे जाने तक दो लोगों की ही पहचान हो सकी है। पुलिस मृतक के परिजनों का पता लगाने का प्रयास कर रही है। ड्ढr मौत के मुंह से निकली रिंकूड्ढr फुलवारीशरीफ (सं. सू.)। गौरीचक थाना अन्तर्गत रामगंज गांव के पास बस दुघर्टना की प्रत्यक्ष गवाह रिंकू देवी (28 वर्ष) हादसे को याद कर कांप जाती है। रिंकू देवी उस बस से सवार होकर अपने मैके अकौना जा रही थी। अचानक सामने से आ रहे ट्रैक्टर को बचाने में बस ड्राइवर ने अपना संतुलन खो दिया और बस गे में जाकर पलट गयी।ड्ढr ड्ढr एक निजी नर्सिग होम में इलाज करा रही रिंकू देवी ने बताया कि अचानक हुए इस हादसे के बाद चारों तरफ चीख पुकार शुरू हो गई। आसपास गांव के लोग वहां जमा हो गये और बस में फसें लोगों को खिड़की से खींचकर निकाला गया। इसमें औरतों एवं बच्चों की संख्या भी काफी थी। वहीं घायल शिवलखन ने बताया कि लगभग एक बजे दोपहर बस पटना से जहानाबाद के लिए खुली थी। बस के अंदर के अलावा छत पर काफी संख्या में लोग बैठे थे। शिवलखन ने बताया कि तीन बार पलटी खाने के बाद बस गे में जा गिरी। इस हादसे में दर्जनों लोग बस से कुचलकर घायल हो गये। घटना स्थल पर उपस्थित भूमि सुधार उपसमाहर्ता ब्रजेश कुमार एवं पुनपुन अंचलाधिकारी शालिनी कुमारी ने बताया कि बस ड्राइवर-खलासी का अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है। वे वहां पुलिस बल के साथ कैम्प कर रहे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गये थे मजदूरी को मिल गई मौत