class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रतिबंध प्रभावी हुआ

देश को धूम्रपान मुक्त बनाने की दिशा में कई वर्षो से किए जा रहे प्रयासों को आखिरकार सफलता मिली और गुरुवार से पूरे देश में सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान पर पाबंदी लागू हो गई है। हालांकि इस प्रतिबंध का उत्तर प्रदेश में कोई विशेष असर नहीं दिखा जबकि पश्चिम बंगाल में इसको बगैर आधिकारिक आदेश और नीतिगत दिशानिर्देशों के कैसे लागू किया जाय को लेकर भ्रम की स्थिति बनी रही।ड्ढr ड्ढr केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डा. अंबुमणि रामदास ने चेन्नई में कहा कि धूम्रपान मुक्त कार्यस्थल से सिर्फ धूम्रपान करने वाले हतोत्साहित नहीं होंगे बल्कि वहां काम करने वाले लोगों को सुरक्षित कार्यस्थल भी मिलेगा। उन्होंने कहा कि प्रति वर्ष विश्वभर में धूम्रपान करने वालों के आसपास रहने वाले करीब दो लाख लोगों की मौत हो जाती है। उन्होंने बताया कि तमिलनाडु, दिल्ली, चंडीगढ़ और झारखंड ने इसे लागू करने की पहल कर दी है जबकि मध्य प्रदेश अभी पीछे हैं लेकिन उसे इसे लागू करने के लिए कहा गया है। हालांकि उन्होंने कहा कि इस कानून को नहीं लागू करने वाले राज्यों को दंडित करने का वैधानिक अधिकार उनके मंत्रालय के पास नहीं है।ड्ढr ड्ढr अब तंबाकू पर निशानाड्ढr चेन्नई (एजेंसी)। सार्वर्जनिक स्थानों में धूम्रपान पर पाबंदी लागू होने से खुश केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री अंबुमणि रामदॉस का अगला निशाना तमाम तरह के तंबाकू उत्पाद हैं। रामदॉस ने गुरुवार को धूम्रपान निषेध अभियान में हिस्सा लिया। इस अभियान के तहत उन्होंने स्थानीय बस अड्डे पर यात्रियों के बीच धूम्रपान निषेध कानून के विभिन्न बिंदुओं से संबंधित पर्चे बांटे। उन्होंने कहा कि उनकी दिली इच्छा है कि मुल्क ‘टुबैको-फ्री’ बने लेकिन उनके पास इसका अधिकार नहीं है। तंबाकू उत्पादों पर रोक लगाने का काम चूंकि तुरंत नहीं हो सकता, लिहाजा इसे चरणबद्ध तरीके से अमल में लाया जाएगा।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रतिबंध प्रभावी हुआ