class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बॉलीवुड कलाकारों के बजाए अपने ‘सितारों’ से ही प्रचार करा रही पार्टियां

बॉलीवुड कलाकारों के बजाए अपने ‘सितारों’ से ही प्रचार करा रही पार्टियां

वक्त के साथ चुनाव प्रचार और उसके तरीके बदल रहे हैं। उम्मीदवार अब अपनी सभाओं में भीड जुटाने के बजाए घर-घर और हर मतदाता तक पहुंचने की कोशिश में जुटे हैं। सोशल मीडिया ने उम्मीदवारों को विधानसभा क्षेत्र के हर मतदाता तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई है। इस सबके बीच, चुनाव में मुंबई से फिल्मी सितारों को बुलाकर प्रचार में ‘बॉलीवुड तड़का’ लगाने का चलन भी कुछ हद तक कम हुआ है।

विधानसभा चुनाव पर नजर डाले तो गिने-चुने उम्मीदवारों को छोड़कर किसी ने प्रचार के लिए फिल्मी सितारों का मजमा नहीं लगाया। जीनत अमान, महिमा चौधरी, सुनील शेट्टी और शहबाज खान ने कुछ जगह प्रचार जरुर किया। पर पिछले चुनावों के मुकाबले काफी कमी आई है क्योंकि पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने फिल्मी सितारों को बुलाने के साथ स्लमडॉग मिलिनेयर के ‘जय हो’ गाने का कॉपीराइट भी खरीद लिया था।

बॉलीवुड से फिल्मी सितारों को प्रचार में कम बुलाने की एक बड़ी वजह यह भी है कि हर पार्टी के पास फिल्मी हस्तियां हैं। कांग्रेस के राजबब्बर हों या भाजपा की हेमा मालिनी, स्मृति ईरानी व मनोज तिवारी। सपा के पास जया बच्चन और जया प्रदा हैं। हालांकि, सपा ने जयप्रदा को चुनाव प्रचार से दूर रखा। बसपा के पास फिल्हाल कोई फिल्मी सितारा नहीं है। ऐसे में बसपा उम्मीदवारों ने प्रचार में बॉलीवुड तड़का लगाया है।

कांग्रेस के चुनाव प्रचार का जिम्मा संभाल रहे एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि इन चुनाव किसी उम्मीदवार ने प्रचार के लिए बॉलीवुड सितारे की मांग नहीं की। जबकि पिछले चुनावों में उम्मीदवार अपने पसंदीदा बॉलीवुड अभिनेता और अभिनेत्रियों की मांग करते नहीं थकते थे। वर्ष 2012 के उप्र चुनाव में संजय दत्त, असरानी, नफीसा अली और अरशद वारसी सहित कई फिल्मी सितारों ने प्रचार किया था। पर इस बार कलाकार की मांग नहीं हैं।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर राजबब्बर प्रचार कर रहे हैं। हर उम्मीदवार प्रचार के लिए उन्हें बुलाना चाहता है। पार्टी के पास फिल्म अभिनेत्री नगमा भी है। पर उनका प्रचार भी बहुत सीमित है। दूसरी तरफ, भाजपा में भी हेमा मालिनी और स्मृति ईरानी जिम्मा संभाल रही हैं। भाजपा के पास ‘शॉट गन’ भी हैं। पर बिहार की तरह यूपी में भी शत्रुघन सिन्हा को प्रचार से दूर रखा गया है। भाजपा की स्टार प्रचारकों की सूची में शत्रुघन सिन्हा का नाम नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:political parties using their film stars for election campaigns
From around the web