class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लिंग अनुपात शर्मनाक: पढ़ें- कहां हुई सबसे ज्यादा बेटियों की हत्या

लिंग अनुपात शर्मनाक: पढ़ें- कहां हुई सबसे ज्यादा बेटियों की हत्या

भारत में लिंग अनुपात वर्ष 2011-13 की तुलना में वर्ष 2012-14 में तीन अंक गिरा है। वर्ष 2011-13 में प्रति 1000 पुरुष 909 लड़कियां थी जो 2012-14 में घटकर 906 ही रह गई हैं। यह खुलासा सांख्यिकीय रिपोर्ट 2014 के सैंपल रजिस्ट्रेशन सिस्टम (एसआरएस) में हुआ है। इन आंकड़ों से पता चलता है कि ग्रामीण क्षेत्रों में लिंग अनुपात शहरी क्षेत्रों के मुकाबले ज्यादा तेजी से बिगड़ा रहा है। 

ग्रामीण क्षेत्रों में 2011-13 में प्रति हजार पुरुषों पर 910 लड़कियां थीं जो 2012-14 में सिफ 907 ही रह गई। वहीं शहरी क्षेत्रों में 2011-13 में 906 थी और 2012-14 में घटकर 905 रह गई है। एक आदर्श लिंग अनुपात प्रति 1000 पुरुष पर 960 लड़कियों का है लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में ये लिंग अनुपात 960 का है इसका मतलब 53 लड़कियों को गर्भ में ही मार दिया जाता है। इसलिए 100 पुरुष के लिए 53 लड़कियों की कमी है। 

2012-14 के आंकड़ों के मुताबिक केरल में 1000 पुरुषों के मुकाबले सबसे ज्यादा 974 लड़कियां हैं। वहीं हरियाणा में सबसे कम सिर्फ 866 लड़कियां ही हैं। वहीं 2011-13 के आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा लिंग अनुपात छत्तीसगढ़ का था, जहां 1000 पुरुषों पर 970 लड़कियां थी। वहीं हरियाणा में सबसे कम 864 लड़कियां थी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: haryana tops the list amid national trend of worsening sex ratio at birth report
From around the web