Image Loading
मंगलवार, 31 मई, 2016 | 11:23 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • एडमिरल सुनील लांबा बने नौसेना प्रमुख
  • महाराष्ट्र के केंद्रीय हथियार डिपो में आग, सेना के 17 लोगों की मौत: टीवी रिपोर्ट
  • शेयर बाजार: सेंसेक्स 103 अंक चढ़कर 26,828 पर खुला, निफ़्टी 8,205
  • श्रीलंकाई नेवी ने रामेश्वरम के पास भारतीय नौका पकड़ी, 7 भारतीय मछुआरे गिरफ्तार
  • विदेश मंत्री सुषमा स्वराज आज करेंगी अफ्रीकी छात्रों से मुलाकात
  • मध्यम दूरी तक मार करने वाली उत्तर कोरियाई मिसाइल का प्रक्षेपण विफल

साल 2012 में नकदी संकट से जूझती रही रेलवे

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:26-12-2012 12:08:40 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
साल 2012 में नकदी संकट से जूझती रही रेलवे

वर्ष 2012 रेलवे के लिए उथलपुथल भरा रहा और इस दौरान नकदी संकट से जूझ रहे रेल मंत्रालय ने एक के बाद एक चार मंत्रियों के चेहरे देखे। मंत्री बदलने से नीति निर्माण की प्रक्रिया सुस्त पड़ी।
   
तृणमूल कांग्रेस द्वारा सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद करीब डेढ़ दशक बाद रेल मंत्रालय कांग्रेस के खाते में आया। लेकिन यात्री किराया बढ़ाना नए रेल मंत्री के लिए टेढ़ी खीर प्रतीत होता है।
   
चालू वर्ष में रेलवे में परिचालन लागत और यात्री किराया आय के बीच अंतर बढ़ता जा रहा है, जबकि माल ढुलाई भाड़े से आय लक्ष्य से कम है। रेलवे को अक्टूबर तक 67,879.95 करोड़ रुपये की कमाई हुई, जबकि लक्ष्य 70,147.74 करोड़ रुपये का था।
   
इस समय, रेलवे की 347 परियोजनाएं चल रही हैं जिनके तहत नयी रेल लाइनें बिछाई जा रही हैं, छोटी लाइन को बड़ी लाइन में तब्दील किया जा रहा है और सिंगल लाइन को डबल लाइन किया जा रहा है जिस पर करीब 1.47 लाख करोड़ रुपये का खर्च आएगा।
   
धन की कमी के चलते रेलवे को ज्यादातर परियोजनाओं के लिए धन आबंटन में कटौती करने को बाध्य होना पड़ा है। इस साल आखिरकार रायबरेली कोच फैक्टरी को चालू कर दिया गया। इसके अलावा, रेलवे ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के निर्वाचन क्षेत्र में एक व्हील फैक्टरी लगाने की भी घोषणा की।
   
साल की शुरुआत में तत्कालीन रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी ने रेल बजट में यात्री किराया करीब 15 प्रतिशत बढ़ाने का प्रस्ताव किया। हालांकि, तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी के नाराज होने के बाद इसे वापस ले लिया गया।
   
यात्री किराया बढ़ाने का प्रस्ताव करना त्रिवेदी के लिए महंगा साबित हुआ और उन्हें रेल मंत्री का पद छोड़ना पड़ा, जिसके बाद ममता के विश्वासपात्र मुकुल रॉय को रेल मंत्री बनाया गया, जो करीब सात महीने तक मंत्री रहे और ज्यादातर कामकाज कोलकाता से रहते हुए संभाल रहे थे।
   
सितंबर में तृणमूल कांग्रेस द्वारा संप्रग सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद कांग्रेस के सीपी जोशी को रेल मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंप दिया गया और उन्होंने करीब एक महीने की अल्प अवधि में रेल किराया प्राधिकरण गठित करने के प्रस्ताव किया।
   
मंत्रिमंडल में फेरबदल किए जाने पर पवन कुमार बंसल एक साल में चौथे रेल मंत्री बने और उन्होंने रेलवे की वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए यात्री किराए बढ़ाने के संकेत दिए। निष्पादन समीक्षा के दौरान प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रेलवे को रेल किराया प्राधिकरण के गठन की प्रक्रिया में तेजी लाने को कहा। इस दौरान 300 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने वाली बुलेट ट्रेन के लिए संभाव्य सर्वेक्षण कराने के वास्ते सात रूटों की पहचान की गई।
   
जहां तक रेल दुर्घटना का संबंध में इस साल रेल की पटरियों और मानवरहित रेलवे क्रासिंगों पर 15,934 लोग मारे गए। दुर्घटना पर अंकुश लगाने के लिए रेलवे ने ट्रेन कोलिजन एवायडेंस सिस्टम पेश करने का निर्णय किया है।
   
टिकटों के व्यवसाय में दलालों पर अंकुश लगाने के लिए रेलवे ने ट्रेनों में आरक्षित श्रेणी में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए आईडी प्रूफ अनिवार्य कर दिया है। इससे पहले, एसी श्रेणी के यात्रियों के लिए यह अनिवार्य था।

 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Bihar Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
CEAT अवॉर्ड्स: कोहली बने साल के सर्वश्रेष्ठ टी-20 खिलाड़ीCEAT अवॉर्ड्स: कोहली बने साल के सर्वश्रेष्ठ टी-20 खिलाड़ी
भारत के स्टार बल्लेबाज विराट कोहली को साल का सिएट टी20 खिलाड़ी चुना गया जबकि पूर्व भारतीय कप्तान दिलीप वेंगसरकर को एक समारोह में आजीवन उपलब्धि पुरस्कार से नवाजा गया। इस दौरान कई पूर्व और वर्तमान खिलाड़ी भी उपस्थित थे।