Image Loading
बुधवार, 25 मई, 2016 | 10:49 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • हैबतुल्ला अखुंदजादा अफगान तालिबान का नया सरगना बना
  • अफगान तालिबान ने अमेरिकी ड्रोन हमले में पूर्व नेता मुल्ला अख्तर मंसूर की मौत की...
  • उत्तराखंड: अल्मोड़ा में बस खाई में गिरी, 8 लोगों की मौत
  • उत्तराखंड बोर्ड: हाईस्कूल और इंटरमीडिएट का रिजल्ट थोड़ी देर में। देखने के लिए...
  • तिरूवनंतपुरमः शपथ ग्रहण से पहले राज्यपाल पी सदाशिवम से मिले पिनरई विजयन
  • शेयर बाजार: सेंसेक्स 318 अंक चढ़कर 25,621 पर पंहुचा, निफ़्टी 7,855
  • चीन-भारत बिजनेस फोरम: दोनों देशों के बीच आर्थिक और व्यापारिक सहयोग की असीम...
  • गुआंगझोउः चीन-भारत बिजनेस फोरम में बोले राष्ट्रपति मुखर्जी, चीन की आर्थिक...
  • उत्तराखंड बोर्ड का रिजल्ट आज होगा घोषित, कैसे देखें नतीजे? जानने के लिए क्लिक...

वोडाफोन के समर्थन में विकसित देशों के उद्योगमंडल

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:02-04-2012 04:02:16 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
वोडाफोन के समर्थन में विकसित देशों के उद्योगमंडल

औद्योगिक देशों के उद्योग मंडल भारत में मोबाइल फोन सेवा बाजार की एक प्रमुख सेवा प्रदाता वोडाफोन पर हचिसन के साथ सौदे को लेकर कर लगाए जाने के मामले में उसके समर्थन में खड़े हो गए हैं।

इन संगठनों ने वोडाफोन के साथ विवाद के मद्देनजर भारतीय आयकर कानून में पीछे की तिथि से प्रभावी संशोधन के प्रस्ताव की आलोचना की है। इन संगठनों ने आगह किया है कि इस प्रस्ताव के मद्देनजर बड़ी संख्या में विदेशी कंपनियां ने भारत में कारोबार की लागत और निवेश को लेकर फिर से विचार शुरू कर दिया है।

ब्रिटेन की  कनफेडरेरशन ऑफ ब्रिटिश इंडस्ट्री, अमेरिका की यूएस काउंसिल फॉर इंटरनेशनल बिजनेस और जापान फॉरेन ट्रेड काउंसिल ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर कहा है कि यदि कर कानून में बदलाव होते हैं, तो वे आगे की तारीख से  लागू होने चाहिए न कि पिछली तारीख से। कानून में बदलाव भले हो पर पूर्व के अदालती फैसले कायम रहने चाहिए।

इन एसोसिएशनों का दावा है कि दुनिया की ढाई लाख कंपनियां उनसे संबद्ध हैं। वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने पिछले सप्ताह संसद में वोडाफोन जैसे विलय एवं अधिग्रहण सौदों को आयकर के दायरे में लाने के लिए आयकर कानून में पिछली तिथि से संशोधन को उचित ठहराते हुए कहा है, भारत कर-शून्य व्यवस्था वाला देश नहीं है। भारत में करों की एक निश्चित दर है, लेकिन यह करापवंचकों की पनाहगाह नहीं है।

 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Uttrakhand Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड