Image Loading
मंगलवार, 27 सितम्बर, 2016 | 19:20 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पंजाब-हिमाचल सीमा पर संदिग्ध की तलाश, पठानकोट में संदिग्ध की तलाश जारी, पुलिस ने...
  • पाकिस्तान के हाई कमिश्नर अब्दुल बासित को विदेश मंत्रालय ने किया तलब, उरी हमले के...
  • CBI ने सुप्रीम कोर्ट से बुलंदशहर गैंगरेप केस में कथित बयान को लेकर यूपी के मंत्री...
  • दिल्लीः कॉरपोरेट मंत्रालय के पूर्व डीजी बी के बंसल ने बेटे के साथ की खुदकुशी,...
  • मामूली बढ़त के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 78.74 अंको की तेजी के साथ 28,373 और निफ्टी...
  • US Election Debate: ट्रंप की योजनाएं अमेरिका की अर्थव्यव्स्था के लिए ठीक नहीं, हमें सब के...
  • हावड़ा से दिल्ली की ओर जा रही मालगाड़ी पटरी से उतरी, सुबह की घटना, अभी रेल यातायात...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

धान किसानों के मुद्दे पर लोकसभा में जमकर हंगामा

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:07-12-2012 12:57:55 PMLast Updated:07-12-2012 01:18:22 PM
धान किसानों के मुद्दे पर लोकसभा में जमकर हंगामा

उत्तर प्रदेश और बिहार में धान की खरीद नहीं होने के मुद्दे पर लोकसभा में सरकार को बाहर से समर्थन दे रहे राजद एवं सपा सदस्यों के भारी रोष प्रकट किए जाने पर सरकार ने शुक्रवार को आश्वासन दिया कि वह संबंधित राज्यों के अधिकारियों की बैठक बुलाकर मसले का समाधान करेंगी।

शून्यकाल में कांग्रेस के जगदम्बिका पाल ने यह मुद्दा उठाया, जिसका सपा के मुलायम सिंह यादव और राजद के लालू प्रसाद ने जमकर समर्थन किया। इस विषय पर उत्तेजित सदस्यों को शांत करने का प्रयास करते हुए वित्त मंत्री पी चिदम्बरम ने कहा कि सदस्यों ने उत्तर प्रदेश और बिहार में धान की खरीद में कई कमियों का उल्लेख किया है और ऐसी खबरें हैं कि धान की गुणवत्ता में कमी और उसमें नमी होने के नाम पर उसकी खरीद नहीं की जा रही है।

चिदम्बरम ने कहा कि वह इन दोनों राज्यों के धान किसानों की समस्याओं से संबंधित केंद्रीय मंत्री को अवगत करा देंगे। उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र सरकार राज्य सरकार के अधिकारियों और बिक्री केंद्र से जुड़े अफसरों की बैठक बुलाकर मसले का कोई हल निकालेगी।

उत्तेजित सदस्य मंत्री के जवाब से संतुष्ट नहीं हुए और आसन के सामने आकर अपना रोष व्यक्त करने लगे, जिसके चलते अध्यक्ष मीरा कुमार ने लगभग सवा 12 बजे सदन की बैठक दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

इससे पहले, कांग्रेस के जगदम्बिका पाल ने यह मामला उठाते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश और बिहार के किसानों को अत्याधिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि सरकार के खरीद केंद्र उनके धान को यह कहकर नहीं खरीद रहे हैं कि उसमें नमी है।

उन्होंने कहा कि इससे किसान 1250 रुपये प्रति क्विंटल न्यूनतम समर्थन मूल्य की बजाय बिचौलियों को 950 रुपये प्रति क्विंटल की कीमत पर बेचने को बाध्य हो रहे हैं।

जगदम्बिका पाल ने कहा कि एक ओर किसान यूरिया, उर्वरक, बीज आदि ब्लैक में लेने को मजबूर हैं वहीं सरकारी केंद्र न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उसका धान खरीदने को तैयार नहीं हैं।

सपा के मुलायम सिंह यादव ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश की सरकार को बदनाम करने की साजिश के तहत वहां के किसानों का धान नहीं खरीदा जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को इस संदर्भ में पत्र भी लिखा है लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गयी है।

मुलायम सिंह ने कहा कि धान में कुछ कमी हो सकती है लेकिन उसकी खरीद से इनकार करने की बजाय उसके दाम थोड़ा बहुत घटाकर सरकार को खरीद करनी चाहिए।

राजद के लालू प्रसाद ने कहा कि बिहार के धान किसानों को बिचौलिये लूट रहे हैं क्योंकि सरकारी खरीद केंद्र उसे लेने से इनकार कर रहे हैं। उन्होंने अध्यक्ष मीरा कुमार से आग्रह किया कि वह अपने प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए सरकार से कहे कि किसानों के धान की वाजिब दामों पर खरीद की जाए।

यह मामला उठने के दौरान लालू प्रसाद सहित सपा और राजद के सदस्य आसन के सामने कई बार आकर अपना विरोध दर्ज कराते देखे गए।

इसी हंगामे के बीच भाजपा के शाहनवाज हुसैन ने भी अपनी बात रखने का प्रयास किया और कहा कि एफसीआई (भारतीय खाद्य निगम) जानबूझकर बिहार के धान किसानों की उपेक्षा कर रही है।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड