Image Loading
गुरुवार, 26 मई, 2016 | 10:14 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • दिल्ली के अति सुरक्षा वाले इलाके विजय चौक में दिखी नील गाय, वन अधिकारी मौके पर
  • कैंप में आर्म्स ट्रेनिंग नहीं, आतंकवाद से लड़ने की ट्रेनिंग दी जा रही थी:...
  • शेयर बाजार: सेंसेक्स 160 अंक चढ़कर 26,041 पर खुला, निफ़्टी 7,967
  • दिल्ली-एनसीआर में मौसम का हाल: आज न्यूनतम तापमान 27 डिग्री, अधिकतम 40 डिग्री होने की...
  • मोदी सरकार के 2 सालः 14 विवाद, जिन पर हुआ हंगामा
  • कैसे रहे मोदी सरकार के दो साल? जानें आम जनता और एक्सपर्ट्स की राय

भविष्य में चीनी की कीमतों में गिरावट के आसार

मुंबई, एजेंसी First Published:25-12-2012 01:30:52 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
भविष्य में चीनी की कीमतों में गिरावट के आसार

पिछले बचे अधिक स्टॉक तथा कमजोर वैश्विक मूल्य के कारण निकट भविष्य में चीनी की कीमतों में गिरावट आने की उम्मीद है। प्रमुख क्रेडिट रेटिंग एजेंसी आईसीआरए की सहायक संस्था आईएमएसीएस ने आज यह जानकारी दी है।
    
आईएमएसीएस ने एक रिपोर्ट में कहा कि लगातार तीसरे वर्ष अधिशेष उत्पादन की संभावना को देखते हुए चीनी की वैश्विक कीमत चीनी वर्ष 2013 में गिरने की उम्मीद है। पहले के बचे स्टॉक के और बढ़ने की भविष्यवाणी की गई है जिसके कारण वैश्विक चीनी कीमतों पर दबाव बढ़ेगा।
    
भारत में चीनी वर्ष अक्टूबर से लेकर सितंबर महीने तक का होता है। चीनी वर्ष 2013 में चीनी उत्पादन करीब 24 से 26 लाख टन घटकर 2.4 करोड़ टन रह जाने की उम्मीद है।
    
रिपोर्ट में कहा गया है कि पहले के बचे हुए करीब 68 लाख टन के स्टॉक को देखते हुए चीनी वर्ष 2012 में चीनी की कुल उपलब्धता करीब 3.07 से 3.1 करोड़ टन होने का अनुमान है।
    
इसकी तुलना में चीनी की खपत बढ़कर 2.27-2.3 करोड़ टन होने की उम्मीद है जिसके कारण करीब 80 लाख टन का अधिशेष स्टॉक बच जायेगा।
    
इसमें कहा गया है कि 61 लाख टन के बचे हुए स्टाक पर विचार करते हुए चीनी वर्ष 2012 में निर्यात 35 लाख टन से घटकर चीनी वर्ष 2013 में करीब 20-22 लाख टन रह जाने की संभावना है।
    
आईएमएसीएस की रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2012-13 के दौरान चीनी उत्पादन में गिरावट की उम्मीद तथा सरकार के द्वारा निर्धारित इथेनॉल की कम कीमत को देखते हुए ईंधन इथेनॉल जैसे प्रति उत्पादों का परिदृश्य अनिश्चित लग रहा है।
    
रिपोर्ट में कहा गया है कि विगत तीन वर्षों तक चीनी का अधिक उत्पादन हुआ और इसकी वार्षिक वृद्धि दर 22 प्रतिशत थी। इस वृद्धि दर के साथ अब चीनी वर्ष 2013 के दौरान चीनी उत्पादन करीब आठ से नौ प्रतिशत घटकर 2.4 करोड़ टन रहने की भविष्यवाणी की गई है जिसका मुख्य कारण गन्ना उत्पादन में गिरावट आना है।
    
इसके अलावा इसमें कहा गया है कि चीनी के मुकाबले गुड़ की अधिक कीमत, गन्ने के अधिक बकाये और चीनी मिलों के कमजोर होते वित्तीय प्रदर्शन के कारण गुड़ के लिए गन्ने का स्थानांतरण अधिक हो सकता है।
    
भारत में चीनी का उत्पादन गन्ने के उत्पादन और उपलब्धता तथा चीनी, गुड़ और खांडसारी के लिए इसके इस्तेमाल पर निर्भर है।
    
भारत का गन्ना उत्पादन चीनी वर्ष 2013 के दौरान 6.2 प्रतिशत घटने की भविष्यवाणी की गई है जिसका कारण सत्र की शुरुआत में कमजोर मानसून के कारण उपज में 6.5 प्रतिशत की गिरावट आना है। देश में चीनी की खपत मध्यम अवधि में 2.5-तीन प्रतिशत प्रतिवर्ष बढ़ने की उम्मीद है।

 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Uttrakhand Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
VIDEO: RCB के जीत के जश्न में चोटिल डिविलियर्स के चेहरे से आया खूनVIDEO: RCB के जीत के जश्न में चोटिल डिविलियर्स के चेहरे से आया खून
रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) को खराब शुरुआत के बावजूद अकेले दम पर आईपीएल-9 के फाइनल में ले जाने वाले ए बी डिविलियर्स को टीम का आक्रामक जश्न कुछ महंगा पड़ गया और उनके चेहरे से खून तक निकलने लगा।